मेरठ: बवाल के आरोपी बदर अली का निर्माणाधीन अस्पताल हुआ जमींदोज

मेरठ: बवाल के आरोपी बदर अली का निर्माणाधीन अस्पताल हुआ जमींदोज


मेरठ। 30 जून को जुलूस के दौरान मेरठ में हुए बवाल के मुख्य आरोपी युवा सेवा समिति के अध्यक्ष बदर अली की पुलिस प्रशासन ने चारों तरफ से घेराबंदी शुरू कर दी है।

बदर अली को जेल भेजने के बाद अब पुलिस उसके द्वारा किए गए गैरकानूनी कामों पर शिकंजा कस रही है। इसी कड़ी में मंगलवार को मेरठ विकास प्राधिकरण के अधिकारियों ने पुलिस-प्रशासनिक अमले के साथ परतापुर स्थित बदर अली के निर्माणाधीन अस्पताल पर धावा बोल दिया। प्राधिकरण के अधिकारियों ने इस अस्पताल को मानकों के विपरीत बताते हुए जेसीबी की मदद से चंद घंटों में जमींदोज कर डाला।

एमडीए के जोनल अधिकारी करणवीर के साथ प्राधिकरण के कई अफसर और कर्मचारी जेसीबी मशीनों के साथ मंगलवार को जुर्रानपुर स्थित बदर अली के निर्माणाधीन अस्पताल पर पहुंचे। प्रशासन द्वारा अस्पताल के ध्वस्तिकरण को लेकर पूर्व में दिए गए आदेश के चलते अधिकारियों को मौके पर कोई व्यक्ति नहीं मिला। जिसके बाद एमडीए की जेसीबी मशीनों की मदद से कर्मचारियों ने चंद घंटों में ही अस्पताल की निर्माणाधीन बिल्डिंग को जमींदोज कर डाला।

जोनल अधिकारी करणवीर सिंह ने बताया कि उक्त बिल्डिंग का मानचित्र अली द्वारा स्वीकृत नहीं कराया गया था। जिसके चलते नोटिस देने के बाद बदर अली ने बिल्डिंग का शमन मानचित्र प्राधिकरण में जमा किया था। मगर इसके बावजूद बिल्डिंग के फ्रंट व साइड सेटबैक कवर किए गए थे। तीन नोटिस जारी करने के बावजूद भी बदर अली द्वारा प्राधिकरण को माकूल जवाब नहीं दिया गया। जिसके चलते ध्वस्तीकरण की कार्रवाई की गई है। अवैध निर्माण किसी भी सूरत में नहीं होने दिया जाएगा। इससे पहले सच संस्था के अध्यक्ष संदीप पहल एडवोकेट ने भी बदर अली पर भ्रष्टाचार का पैसा अस्पताल में लगाने का आरोप लगाया था।


Share it
Top