मुठभेड़ में ट्रैक्टर एजेंसी मालिक पर हमला करने वाला डी-117 गैंग का शूटर गिरफ्तार

मुठभेड़ में ट्रैक्टर एजेंसी मालिक पर हमला करने वाला डी-117 गैंग का शूटर गिरफ्तार

तीन दिन पूर्व जेल में बंद गैंग लीडर के कहने पर साथी के साथ की थी फायरिंग

कानपुर। जनपद में बिल्हौर पुलिस को मुठभेड़ में डी-117 गैंग के शूटर को पकड़ने में कामयाबी मिली है। गिरफ्तार बदमाश का साथी भागने में सफल रहा। पकड़े गये शूटर ने तीन दिन पूर्व जेल में सजा काट रहे गैंग लीडर के कहने पर ट्रैक्टर एजेंसी मालिक पर जानलेवा हमला करते हुए फायरिंग की थी। उसके कब्जे से तमंचा, कारतूस बरामद कर पुलिस कार्रवाई में जुट गई है।

पुलिस अधीक्षक ग्रामीण प्रद्युमन सिंह ने गुरुवार को बताया कि बिल्हौर प्रभारी निरीक्षक ज्ञान प्रकाश सिंह की बुधवार की देर रात बिल्हौर मकनपुर के पास बदमाशों से मुठभेड़ हुई। इसमें एक बदमाश पैर में पुलिस की गोली लगने से घायल हालत में पकड़ा गया। वहीं उसका साथी साइकिल से फरार हो गया। गिरफ्तार अभियुक्त बिल्हौर के अशफाक उल्ला नगर निवासी ताज बाबू है। वह डी-117 गैंग का सक्रिय सदस्य है।

पुलिस अधीक्षक ग्रामीण ने बताया कि गिरफ्तार अभियुक्त से पूछताछ में पता चला है कि कानपुर देहात के माती कारागार में बंद गैंग के लीडर पंकज यादव उर्फ गोलू की जमीन खरीदने को लेकर आयशर ट्रैक्टर एजेंसी के मालिक सुबोध कटियार सिंह से दुश्मनी हो गयी। इसका बदला लेने के लिए गैंग के सरगना के कहने पर उसने साथी के साथ मिलकर बीती 24 जून को ट्रैक्टर एजेंसी मालिक पर जान से मारने के लिए पिस्टल से दो राउंड फायरिंग की, लेकिन वह हमले में बाल-बाल बच गये।

गिरफ्तार अभियुक्त पर जनपद में हत्या, हत्या का प्रयास, गैंगेस्टर एक्ट व शस्त्र अधिनियम सहित छह मुकदमे दर्ज हैं। उसके कब्जे से एक तमंचा, दो खोखा व दो जिन्दा कारतूस बरामद हुए हैं। गिरफ्तार घायल अभियुक्त को पुलिस अभिरक्षा में सीएचसी बिल्हौर में प्राथमिक उपचार के बाद हैलट अस्पताल में भर्ती कराते हुए आगे की कार्रवाई की जा रही है।

जेल से चला रहा गैंग की कमान

डी-117 गैंग के शूटर ताज बाबू के मुताबिक गैंग की कमान इन दिनों माती में बंद पंकज यादव के हाथ में है। जेल में बंद होने के बावजूद वह मिलाई करने जाने वाले लोगों के जरिए रंगदारी व लूटपाट, चेन स्नेचिंग आदि आपराधिक गतिविधियों को संचालित करा रहा है। गिरफ्तार अभियुक्त द्वारा ट्रैक्टर एजेंसी के मालिक पर हुई फायरिंग भी इसी का हिस्सा है। एसपी ग्रामीण के मुताबिक जेल में बंद उसके सरगना से मिलने वालों की जानकारी जुटाई जा रही है। ताकि गैंग के सदस्यों का सुराग लगाया जा सके।


Share it
Top