फर्जी नाम पर कांस्टेबल ट्रेनिंग ले रही महिला गिरफ्तार

फर्जी नाम पर कांस्टेबल ट्रेनिंग ले रही महिला गिरफ्तार

मेरठ। पुलिस भर्ती घोटाले में कई बार धांधलेबाजी के आरोप के बाद अब पुलिस ट्रेनिंग स्कूल में सेंधमारी का खुलासा हुआ है। मेरठ के पुलिस ट्रेनिंग सेंटर में पिछले कुछ दिनों से एक अन्य महिला कांस्टेबल के नाम पर फर्जी रूप से ट्रेनिंग ले रही बिजनौर निवासी एक युवती को गिरफ्तार किया गया है। घटना का खुलासा होने के बाद अधिकारियों में हड़कंप मचा है।

हापुड़ रोड स्थित पुलिस ट्रेनिंग सेंटर में वर्तमान समय में 403 महिला रिक्रूटों की ट्रेनिंग चल रही है। बताया जाता है कि मंगलवार की सुबह सभी महिला रिक्रूटों की गिनती चल रही थी। इसी दौरान गिनती में 404 महिला रिक्रूट पाए जाने पर अधिकारियों का माथा ठनक गया। इसके बाद अधिकारियों ने सभी महिला रिक्रूटों को मैदान में बिठाकर उनके दस्तावेज चेक करने शुरू कर दिए। इसी बीच बिजनौर जनपद के नेहटौर निवासी प्रीति पुत्री राजकुमार ने अपने कागजात दिखाए। मगर ट्रेनिंग सेंटर में मौजूद अधिकारियों के पास उपलब्ध सूची में प्रीति के पिता का नाम रोहताश दर्ज था। इसके बाद अधिकारियों ने प्रीति से गहन पूछताछ की तो पूरे मामले का खुलासा हो गया।

प्रीति ने बताया कि वह दूसरी युवती के नाम से 22 मई को लखीमपुर के पुलिस ट्रेनिंग सेंटर में ट्रेनिंग के लिए भर्ती हुई थी। इसके बाद वह कुछ दिन बरेली, मुरादाबाद, सीतापुर, में भी ट्रेनिंग ले चुकी है। चार दिन पहले ही वह मेरठ के पीटीएस में पहुंची थी। उधर मामले का खुलासा होने के बाद सीओ खरखोदा आलोक सिंह ने भी घंटों युवती से पूछताछ की। मगर, फिलहाल युवती के मकसद का पता नहीं चल पा रहा है।

अधिकारियों ने आरोपित प्रीति के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराते हुए उसे गिरफ्तार कर मामले की जांच शुरू कर दी है। उधर, सबसे बड़ा सवाल यह है कि आरोपित युवती कई जिलों के पुलिस ट्रेनिंग सेंटरों में ट्रेनिंग लेती रही, मगर अधिकारियों की पैनी नजरों से कैसे बची रही।


Share it
Top