धर्मयात्रा नहीं राजनीति करने आये है ठाकरे..18 सांसदों के साथ अयोध्या आना, यह धर्म नहीं बल्कि राजनीति है : अंसारी

धर्मयात्रा नहीं राजनीति करने आये है ठाकरे..18 सांसदों के साथ अयोध्या आना, यह धर्म नहीं बल्कि राजनीति है : अंसारी



अयोध्या- राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद विवाद के पक्षकार मोहम्मद इकबाल अंसारी ने शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे के अयोध्या दौरे पर नाराजगी जताते हुये कहा कि यह एक राजनेता की धर्म यात्रा नहीं बल्कि विशुद्ध रूप से राजनीति है।

श्री अंसारी रविवार को अपने निवास पर बातचीत करते हुए कहा कि रामजन्मभूमि और बाबरी मस्जिद विवाद उच्चतम न्यायालय में विचाराधीन है। इसलिये दोनों पक्षों को अदालत के फैसले का इंतजार करना चाहिये। उन्होंने कहा कि शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे की अयोध्या यात्रा पूर्ण रूप से राजनीति से प्रेरित है। अयोध्या धर्मनगरी है। यहां सरयू स्नान, हनुमानगढ़ी और रामलला का दर्शन करना अच्छी बात है लेकिन 18 सांसदों के साथ अयोध्या आना, यह धर्म नहीं बल्कि राजनीति है।

उन्होने कहा कि बाबरी मस्जिद एवं रामजन्मभूमि की राजनीति न करें तो बेहतर है। इस मामले को हल करने के लिये उच्चतम न्यायालय ने पैनल बनाया है। वही पैनल हिन्दू और मुसलमान पक्षकारों को बुला रहे हैं। अयोध्या एक धार्मिक स्थल है लेकिन नेता यहां केवल राजनीति करने आते हैं। अपने मकसद के लिये वो रामजन्मभूमि-बाबरी मस्जिद की राजनीति करते हैं।

बाबरी के पक्षकार ने कहा कि अयोध्या साधु-संतों का शहर है और जहां साधु-संत होते हैं वहां शांति होती है।

मामला सुप्रीम कोर्ट में है तो दोनों पक्षों को अदालत के फैसले का इंतजार करना चाहिये लेकिन हिन्दू पक्ष को कोर्ट पर विश्वास नहीं है। यह वही लोग हैं जो संविधान को नहीं मानते हैं। सुप्रीम कोर्ट ने समस्या के समाधान के लिये मध्यस्थता पैनल बनाया है और इस मामले पर अपना काम कर रहा है। इन लोगों को थोड़े दिन का और सब्र करना चाहिये।

उन्होंने कहा कि मंदिर-मस्जिद पर कोई ऐसा बयानबाजी नहीं होना चाहिये जिससे किसी एक पक्ष पर ठेस पहुंचे बल्कि ऐसा बयान होना चाहिये जो हिन्दुस्तान एक सौहार्द वातावरण के रूप में जाना जा सके। शिवसेना प्रमुख ने कहा कि हमें विश्वास है कि यहां जल्द से जल्द भव्य राम मंदिर बनेगा जिसमें शिवसेना बढ़-चढ़कर हिस्सा लेगी। अयोध्या ऐसा दिव्य स्थान है जहां कण-कण में राम बसे हैं। यहां बार-बार आने की इच्छा होती है। हमारा यह प्रयास रहेगा कि यहां बराबर आता रहूंगा और श्रीरामजी का आशीर्वाद मिलता रहेगा।

एक सवाल के जवाब में श्री ठाकरे ने कहा कि शिवसेना एवं भाजपा का गठबंधन देश के दूसरे राज्यों में मिलकर चुनाव लड़ें इस पर दोनों दलों को विचार करना होगा। शिवसेना प्रमुख श्री ठाकरे अपने तय कार्यक्रम के तहत सुबह करीब नौ बजे अयोध्या एयरपोर्ट पहुंच गये थे और सुबह दस बजे उन्होंने अपने बेटे आदित्य ठाकरे और शिवसेना के सभी 18 सांसदों के साथ रामलला का दर्शन किया। इस अवसर पर शिवसेना के राष्ट्रीय प्रवक्ता एवं राज्यसभा सदस्य संजय राउत, महाराष्ट्र शिवसेना के युवा नेता आदित्य ठाकरे एवं शिवसेना के सभी सांसद मौजूद थे।

गौरतलब है कि प्रदेश की योगी सरकार में उद्धव ठाकरे एवं सभी सांसदों को राज्य अतिथि का दर्जा दिया है। सांसदों का कहना है कि वे रामलला की धरती पर आकर खुद को धन्य मानते हैं। सुबह उठते ही रामजन्मभूमि का दर्शन करने की व्याकुलता था जो पूरा हो गया। सांसद संजय यादव ने बताया कि पहले भी राम मंदिर आ चुके हैं। अयोध्या में भव्य राम मंदिर बने यह शिवसेना ही नहीं सम्पूर्ण भारत का हिन्दू समाज चाहता है।

Share it
Top