पानी के लिये पूरा गांव सड़क पर, खाली बर्तन लेकर लगाया जाम.

पानी के लिये पूरा गांव सड़क पर, खाली बर्तन लेकर लगाया जाम.


मिट्टी के घड़े फोड़कर महिलाओं ने की नारेबाजी

हमीरपुर। जिले में पानी की किल्लत को लेकर ग्रामीण शनिवार को रोड जाम कर धरने पर बैठ गये। ग्रामीणों ने खाली बर्तन लेकर जल निगम के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। ग्रामीणों ने मिट्टी के घड़े फोड़कर विरोध जताया। कई घंटे तक चले ग्रामीणों के आन्दोलन को लेकर एसडीएम और सीओ जल निगम के अधिशाषी अभियंता को साथ लेकर मौके पर पहुंच गये और ग्रामीणों को समझाकर जाम खुलवाया।

मौदहा तहसील क्षेत्र का सायर सबसे बड़ी आबादी वाला गांव है। यहां जल निगम ने वर्षों पहले पेयजल योजना तैयार की थी। इस पेयजल योजना के नलकूप धड़ाम हो जाने से पूरे गांव में पानी के लिये बड़ा संकट खड़ा हो गया है। पिछले कई दिनों से पीने का पानी न मिलने से शनिवार को पूरे गांव के लोगों का आक्रोश भड़क गया। ग्रामीणों ने खाली बर्तन लेकर गांव के बाहर सड़क पर जाम लगा दिया। महिलाओं ने मिट्टी के खाली घड़े फोड़कर जल निगम के खिलाफ नारेबाजी की।

ग्रामीणों के आक्रोश को देखते हुये बिंवार थानाध्यक्ष आरके वर्मा फोर्स के साथ मौके पर पहुंचे। इसके साथ ही मौदहा के एसडीएम राजेश कुमार चौरसिया, सीओ व जल निगम के अधिशाषी अभियंता कमलेश अभियंताओं के साथ मौके पर पहुंचे। ग्रामीणों ने अधिकारियों की मौजूदगी में जमकर नारेबाजी भी की। एसडीएम ने गांव वालों को तत्काल पानी उपलब्ध कराये जाने का आश्वासन देकर किसी तरह जाम खुलवाया। एसडीएम ने बताया कि पेयजल योजना से जलापूर्ति कराने के लिये निर्देश दे दिये गये हैं।

ग्रामीणों ने बताया कि पूरे गांव में आधे से अधिक हैंडपंप खराब है। एक करोड़ से अधिक की लागत से गांव में पेयजल योजना तैयार की गयी, लेकिन इससे कोई लाभ ग्रामीणों को नहीं मिल सका।

जल निगम के अधिशाषी अभियंता कमलेश ने बताया कि पेयजल योजना का एक नलकूप नया बनवाया गया है। इसे पाइप लाइन से जोड़ने का काम जल्द ही पूरा होगा। गांव में आठ सौ मीटर लम्बी पाइप लाइन बिछनी है। जिसमें अभी तक साढ़े चार सौ मीटर तक पाइप लाइन बिछ चुकी है।



Share it
Top