भदोही की आधी आबादी के सियासी इतिहास में सिर्फ फूलन बन पायी सांसद

भदोही की आधी आबादी के सियासी इतिहास में सिर्फ फूलन बन पायी सांसद


मिर्जापुर-भदोही से दस्यु सुंदरी फूलन और अनुप्रिया ही बन पायी सांसद

भदोही। राजनीति की कथनी और करनी में बड़ा फासला होता है। संसद में महिलाओं के लिए 33 फीसदी आरक्षण की बात आज भी लटकी हुई है। लेकिन चुनावी मैदान में महिलाओं को कितना सम्मान दिया गया है यह 2019 के आम चुनाव में भी अहम सवाल है।

भाजपा और कांग्रेस जैसी राष्ट्रीय पार्टीयां भी इस मामले में काफी पीछे हैं। मिर्जापुर-भदोही संसदीय क्षेत्र से दस्यु सुंदरी फूलन देवी के बाद अनुप्रिया पटेल ही ऐसी महिला हैं जो संसद की चौखट तक पहुंची। जबकि अनुप्रिया पटेल केंद्रीय मंत्री भी हैं।

मिर्जापुर-भदोही के संसदीय इतिहास पर नजर डालें तो यहां 1952 से लेकर अब तक सिर्फ दो महिलाएं ही सांसद बन सकी हैं। 1952 से लेकर 2014 तक कुल 21 सांसद चुने गए। जिसमें 1952 और 1957 में एक साथ दो-दो सांसद चुने गए। संसदीय राजनीति के 67 साल के इतिहास में सिर्फ फूलन देवी और अनुप्रिया पटेल यहां से सासंद चुनी गयी।

Share it
Top