अयोध्या: प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की रैली में मंच पर स्थान न मिलने से संत नाराज

अयोध्या: प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की रैली में मंच पर स्थान न मिलने से संत नाराज


अयोध्या। अयोध्या में मंगलवार को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की रैली के दौरान मंच पर जगह नही मिलने पर संतों ने नाराजगी व्यक्त की है। विवादित श्रीरामजन्मभूमि पर विराजमान रामलला के मुख्य पुजारी आचार्य सत्येन्द्र दास ने यहां कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की रैली में मंच पर संत-धर्माचार्यों को स्थान न दिये जाने के कारण संतों में नाराजगी है। उन्होंने कहा कि मंच पर संतों को भी जगर दी जानी चाहिये थी।

डाॅ. राम विलास दास वेदान्ती ने कहा कि मंच पर स्थान न दिये जाने पर अयोध्या के संत-धर्माचार्यों में नाराजगी है। उन्होंने कहा कि अयोध्या के संत-धर्माचार्यों को ऐसे स्थानों पर जाना ही नहीं चाहिये जहां पर अपमान सहना पड़े।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने विवादित श्रीरामजन्मभूमि पर विराजमान रामलला का दर्शन करने एवं प्रसिद्ध हनुमानगढ़ी मंदिर पर मत्था टेकने नहीं आने पर उन्होंने कहा कि राम की कृपा से दर्शन होता है। अयोध्या के संत-धर्माचार्यों ने प्रधानमंत्री के रामलला, प्रसिद्ध हनुमानगढ़ी दर्शन न करना रामभक्तों में एक निराशा हुई है। उन्होंने कहा कि जिसके ऊपर राम की कृपा होती है वही लोग रामलला का दर्शन कर पाते है।

श्रीरामजन्मभूमि न्यास के वरिष्ठ सदस्य डॉ. रामविलास दास वेदान्ती ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के मंच पर मुझको भाजपा के प्रत्याशी सांसद लल्लू सिंह ने इसलिए मंच पर नहीं बैठाया कि कहीं मुस्लिम समाज का वोट कट न जाये। उन्होंने कहा कि रामलला से जुड़े और हिन्दुत्व की बात करने वाले व्यक्तियों को इस बार भारतीय जनता पार्टी ने टिकट नहीं दिया है। उन्होंने कहा कि काँग्रेस, सपा, बसपा जो भी इस पार्टी को छोड़कर भारतीय जनता पार्टी में आया है उसको भाजपा ने टिकट दिया।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने रामलला का दर्शन और प्रसिद्ध हनुमानगढ़ी मंदिर पर जाकर मत्था नहीं टेके जाने पर उन्होंने कोई टिप्पणी देने से इन्कार कर दिया।

Share it
Top