डीजे पर नाचने के दौरान खूनी संघर्ष में एक दर्जन घायल, कई थानों की फोर्स व पीएसी तैनात

डीजे पर नाचने के दौरान खूनी संघर्ष में एक दर्जन घायल, कई थानों की फोर्स व पीएसी तैनात


जौनपुर। शाहगंज कोतवाली के खेतासराय थाना क्षेत्र अंतर्गत शनिवार की देर रात विवाह समारोह के दौरान खूनी संघर्ष में करीब एक दर्जन लोग घायल हो गए। तनाव को स्थिति को देखते हुए रात में ही कई थानों की फोर्स तैनात कर दी गयी और पीएसी ने भी मोर्चा संभाल लिया है। ऐसे में रविवार सुबह स्थिति सामान्य हो सकी है।

नगर के डोभी वार्ड में शनिवार को राजेश यादव की पुत्री की शादी थी। आजमगढ़ जनपद के फूलपुर थाना क्षेत्र के डारीडीहां ग्राम से बारात आयी थी। देर रात्रि लोग डीजे की धुन पर थिरकते हुए सड़क से होकर द्वारचार के लिए आगे बढ़ रहे थे। इसी बीच इसी वार्ड के निवासी एक वर्ग विशेष के युवक ने बुलेट पर दो अन्य को बैठाकर बारात के बीच से निकलना चाहा तो विवाद हो गया। युवक दूसरे रास्ते से जाकर अपने वर्ग के दर्जनों लोगों को बुला लाया और हाकी व रॉड लेकर वर व कन्या पक्ष के लोगों को दौड़ा-दौड़ाकर मारना शुरू कर दिया, ऐसे में भगदड़ सी मच गई। झल्लाये अराजक तत्वों ने कई वाहनों व रथ को भी बुरी तरह तोड़ दिया। अराजकतत्वों ने लड़की के घर पर पथराव भी किया। एक बार तो असामान्य स्थिति देख थानाध्यक्ष समेत पुलिस भी भाग खड़ी हुई। दोबारा कई थानों की फोर्स के साथ उपजिलाधिकारी व सीओ ने पहुंच कर हालात को नियंत्रण में किया। रात लगभग डेढ़ बजे मौके पर जिलाधिकारी अरविंद मलप्पा बंगारी, पुलिस अधीक्षक आशीष तिवारी भी पहुंचे।

अराजकतत्वों के हमले में एक दर्जन लोग घायल हो गए जिनमें लड़के का भाई विनोद यादव (28) व डोभी निवासी राधेश्याम सोनकर (32) का गंभीर स्थिति में जिला चिकित्सालय में इलाज चल रहा है जबकि अन्य घायलों में डोभी वार्ड निवासी हरीराम, रामजीत, गजराज, वीरेंद्र, सुनीता लड़के की मां, फिरता देवी, विशाल, सर्वेश, ठकठौलिया निवासी सावित्री, सोंधी ग्राम निवासी रतन यादव शामिल हैं जिन्हें प्राथमिक उपचार के बाद स्वास्थ्य केंद्र सोंधी से छुट्टी दे दी गई।

इस मामले में लड़की के पिता राजेश यादव की तहरीर पर 16 नामजद व अज्ञात पर विभिन्न धाराओं में पुलिस ने मुकदमा दर्ज किया है। पुलिस ने एक युवक मो. सलमान को गिरफ्तार किया है जबकि दस को हिरासत में लेकर पूछताछ कर रही है। अफरा-तफरी की स्थिति में वर पक्ष ने केवल कन्या का सिन्दूरदान कराया और रात्रि में ही उसे लेकर चले गये। ऐसे में न तो द्वारचार हुआ न ही विवाह की पूरी रस्म पूरी हुई।

क्षेत्राधिकारी शाहगंज अजय श्रीवास्तव ने रविवार सुबह बताया कि स्थिति अब सामान्य है। अराजक तत्वों की पहचान कर ली गई है और उनके खिलाफ जल्द ही कड़ी कार्रवाई की जाएगी।


Share it
Top