विभिन्न भर्ती परीक्षाओं में भर्ती कराने वाले गिरोह के सरगना को बागपत से एसटीएफ ने किया गिरफ्तार

विभिन्न भर्ती परीक्षाओं में भर्ती कराने वाले गिरोह के सरगना को बागपत से एसटीएफ ने किया गिरफ्तार


लखनऊ। उत्तर प्रदेश पुलिस की स्पेशल टास्क (एसटीएफ) ने पैसा लेकर भर्ती कराने वालें गिरोह के मुख्य सरगना को बागपत से गिरफ्तार किया गया है।

एसटीएफ के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक अभिषेक सिंह ने मंगलवार को यहां यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि विभिन्न भर्ती परीक्षाओं में अनुचित लाभ कमाने के उद्देश्य से पेपर लीक कराकर, साॅल्वर बैठाकर और अन्य तरीके से विभिन्न अभ्यर्थि यों काे पैसा लेकर भर्ती कराने वालें गिरोह के मुख्य सरगना अंकित पूनिया को गिरफ्तार कर लिया। यह आरोपी सैनिक बिहार रोहटा फाजलपुर कंकरखेड़ा मेरठ का रहने वाला है। एसटीएफ को काफी समय से इसकी तलाश थी।

उन्होंने बताया कि एसटीएफ को सूचना मिल रही थी प्रदेश में विभिन्न भर्ती परीक्षाओं में अनुचित लाभ कमाने

के उद्देश्य से पेपर लीक कराकर और अन्य तरीके से विभिन्न अभ्यर्थियों को पैसा लेकर भर्ती कराने वालें गिरोह सक्रिय है। इसी गिरोह को पकड़ने के लिए एसटीएफ की विभिन्न टीमों को लगाया गया था। इसी क्रम में एसटीएफ की मेरठ यूनिट मेरठ को सूचना मिली कि पैसा लेकर विभिन्न प्रतियाेगी परीक्षाओं में अभ्यर्थियाें से माेटी रकम लेकर भर्ती कराने वालें गिराेह का सरगना अंकित पूनिया बागपत जिले के बड़ौत इलाके में किसी से मिलने के लिए लाेहड्डा पुलिया आने वाला है। इस सूचना पर एसटीएफ बताये गये स्थान पर पहुंची और जैसे ही अंकित पूनिया वहां पहुंचा मुखबिर की पुष्टि के बाद उसे दबोच लिया।

श्री सिंह ने बताया कि बताया कि पकड़े गये आरोपी ने पूछताछ पर बताया कि वह विभिन्न प्रतियोगी परीक्षाओं में अभ्यर्थियाें से पैसा लेकर पेपर आउट कराकर एंव भर्ती परीक्षा में साल्वर बैठाकर भर्ती कराने के धन्धे में पिछलें 7-8 साल से लिप्त है। इसके पहले वह इस काम को बागपत के अरविन्द राणा के साथ करता था, बाद में अरविन्द राणा से

पैसाें के लेन-देन पर अनबन हाे गयी ताे उसने उसका साथ छोड़ दिया और अपना अलग काम शुरू कर दिया तथा अभ्यर्थियों से माेटी रकम वसूल कर विभिन्न परीक्षाओं में भी मैनें फ्राड करने की काेशिश की हैं। वह अपने किसी निजी कार्य से बड़ौत जा रहा था कि तभी पकड़ लिया गया। उसे बडौत थाने में दाखिल करा दिया गया है। आगे की विधिक कार्रवाई स्थानीय पुलिस द्वारा की जा रही है।

Share it
Top