मतदान कर दलित अल्पसंख्यक बाबा साहब के सपनों को करें साकार : मायावती

मतदान कर दलित अल्पसंख्यक बाबा साहब के सपनों को करें साकार : मायावती



लखनऊ। संविधान निर्माता बाबा साहेब भीमराव अम्बेडकर का हवाला देते हुये बहुजन समाज पार्टी (बसपा) अध्यक्ष मायावती ने दलितों, पिछड़ों और अल्पसंख्यकों को लोकतंत्र के महापर्व मेें बढ चढ कर हिस्सा लेने की अपील की है।

डा अम्बेडकर की 128वीं जयन्ती के अवसर सुश्री मायावती ने कहा कि बाबा साहेब ने सदियों से शोषित-पीड़ित दलितों, पिछड़ों और धार्मिक अल्पसंख्यकों को अपने उत्थान के लिए सत्ता की मास्टर चाबी प्राप्त करने का आह्वान किया था, जिसे सबको मिलकर पूरा करना है।

छत्तीसगढ़ में चुनावी रैली को सम्बोधित करने के लिए यहां से रवाना होने से पहले उन्होंने आदर्श चुनाव आचार संहित सम्मान करते हुये अम्बेडकर स्थल जाने के बजाय अपने निवास पर ही बाबा साहेब के चित्र पर पुष्पांजलि अर्पित की।

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) अध्यक्ष अमित शाह के बयान कि बसपा चुनाव के समय में ही डा. अम्बेडकर को याद करती है, को उन्होंने मिथ्या और शरारतपूर्ण बताते हुये उन्होने कहा कि बसपा ही एकमात्र ऐसी पार्टी है जो बाबा साहेब से साल में 365 दिन प्रेरणा लेकर सर्वसमाज के हित में काम करती है। यदि भाजपा बाबा साहेब की भक्त होती तो उनके अनुयाइयों पर आयेदिन हो रही जुल्म-ज्यादती को किसी भी कीमत पर होने नहीं देती।

बसपा अध्यक्ष ने कहा कि बाबा साहेब की मूर्ति तोड़े जाने के साथ-साथ उनके करोड़ों अनुयाइयों का संवैधानिक हक छीनने तथा उन पर भारी जुल्म-ज्यादती करने वाली भाजपा सरकारों को कोई हक नहीं कि वे अम्बेडकर जयन्ती मनायें।

सुश्री मायावती ने कहा कि बाबा साहेब की सोच सर्वसमाज के हित और कल्याण से ओत-प्रोत थी और यही कारण है कि उन्होंने इस देश को अनुपम मानवतावादी संविधान दिया जो देश की सबसे बड़ी शान एवं ताक़त है।


Share it
Top