'माेदी मैजिक' और मलखान कांग्रेसी दिग्गज की राह में बन सकते है रोड़ा

माेदी मैजिक और मलखान कांग्रेसी दिग्गज की राह में बन सकते है रोड़ा


सीतापुर - लोकसभा चुनाव में उत्तर प्रदेश की वीवीआईपी सीट में शुमार धौरहरा में कांग्रेस के दिग्गज जितिन प्रसाद की राह में 'मोदी मैजिक' के साथ ही बीहड़ों से निकल कर राजनीति में किस्मत आजमाने वाले पूर्व दस्यु सरगना मलखान सिंह रोड़़ा खड़ा कर सकते हैं।

मौजूदा चुनाव में विपक्षी दल भले ही इस बार 'मोदी लहर' की संभावना को खारिज कर रहे हो मगर भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) श्री नरेन्द्र मोदी के दम पर इस बार भी चुनावी नैया पार लगाने की पुरजोर कोशिश कर रही है। यही कारण है कि भाजपा की मौजूदा सांसद के विरोध के बावजूद कांग्रेस के दिग्गज नेता को चुनाव जीतने के लिये एड़ी चोटी का जोर लगाना पड़ रहा है।

भाजपा ने निर्वतमान सांसद रेखा वर्मा पर फिर दांव लगाया है, जबकि कांग्रेस ने पूर्व मंत्री जितिन प्रसाद को उनकी इच्छा के अनुरूप प्रत्याशी तो घोषित कर दिया, लेकिन वह मतदाताओं पर अपना जादू नहीं चला पा रहें है वहीं भाजपा प्रत्याशी का क्षेत्र में भारी विरोध तो है, लेकिन केन्द्र में पुनः मोदी सरकार बनाने के लिये लोग भाजपा का समर्थन करने का मन बना रहें है।

महाराष्ट्र के कारोबारी अरशद इलियास सिद्दीकी बसपा का झण्डा थाम कर चुनाव मैदान में है, लेकिन उन्हें गठबंधन के दूसरे प्रमुख घटक सपा का पूरी तरह से साथ नहीं मिल पा रहा है। प्रगतिशील समाजवादी पार्टी लोहिया के टिकट पर चुनाव लड़ रहें पूर्व दस्यु सरगना मलखान सिंह इस बार चुनाव में भारी उलटफेर कर सकते है। मलखान के चुनाव मैदान में आने से सबसे ज्यादा नुकसान कांग्रेस प्रत्याशी को हो सकता है, वहीं भाजपा और गठबन्धन के वोट भी मलखान के पक्ष में जा सकते है।

Share it
Top