सपा ने की भाजपा उम्मीदवार कठेरिया को गिरफ्तार करने की मांग

सपा ने की भाजपा उम्मीदवार कठेरिया को गिरफ्तार करने की मांग


इटावा। समाजवादी पार्टी के विधि प्रकोष्ठ के जिलाध्यक्ष अश्वनी सिंह ने इटावा में भाजपा उम्मीदवार और राष्ट्रीय अनुसूचित जाति आयोग के अध्यक्ष रामशंकर कठेरिया की गिरफ्तारी की मांग जिला प्रशासन से की है। उन्होंने आरोप लगाया है कि गैर जमानती वारंट जारी होने और दरोगा की पिटाई मामले में संगीन धाराओं में मुकदमा दर्ज होने के बाद भी अभी तक कठेरिया की गिरफ्तारी नहीं हुई है। सत्ता पक्ष के दबाव में आकर पुलिस और प्रशासन काम नहीं कर रही है।

अश्वनी सिंह ने शनिवार को कहा कि भाजपा उम्मीदवार रामशंकर कठेरिया के खिलाफ 2012 विधानसभा चुनाव के दौरान आचार सहिंता मामले में इलाहबाद की एमपी-एमएलए कोर्ट ने कुछ दिन पूर्व गैर जमानती वारंट जारी किया था। उसके बाद 10 अप्रैल को थाना भरेह क्षेत्र के पथर्रा गांव में बिना अनुमति नुक्कड़ सभा करने से रोकने पर रामशंकर कठेरिया ने अपने समर्थकों के साथ मिलकर सब इंस्पेक्टर गीतम पाल सिंह के साथ मारपीट की घटना को अंजाम दिया था।

मामला सुर्खियों में आने के बाद चुनाव आयोग के आदेश पर पीड़ित दरोगा की तहरीर पर भाजपा उम्मीदवार समेत भाजपा की दो विधायक सरिता भदौरिया और सावित्री कठेरिया सहित अठारह भाजपा के लोगों के खिलाफ संगीन धाराओं में नामजद मुकदमा दर्ज किया गया था। मुकदमा और गैर जमानती वारंट होने के बाद भी आरोपित उम्मीदवार की गिरफ्तारी न होने से समाजवादी पार्टी ने पुलिस और प्रशासनिक अधिकारियों की मंशा पर सवाल उठाना शुरू कर दिया है। उन्होंने अधिकारियों पर सत्ता पक्ष के दवाब में काम करने का आरोप लगाया है।

समाजवादी विधि प्रकोष्ठ के जिलाध्यक्ष अश्वनी सिंह ने बताया कि इटावा में भाजपा उम्मीदवार और सत्ता पक्ष के दबाव में पुलिस और प्रशासनिक अधिकारी काम कर रहे हैं। अगर इस तरह के वारंट और मुकदमे किसी और राजनीतिक दल के नेता के खिलाफ या किसी आम नागरिक के खिलाफ होते तो पुलिस बेहिचक उसे गिरफ्तार कर जेल भेज देती। लेकिन आरोपी खुद सत्ता पक्ष का उम्मीदवार है। इसलिए पुलिस उन्हें गिरफ्तार नहीं कर रही है। पीड़ित दरोगा को दबाया जा रहा है। उन्होंने आरोपित प्रत्याशी रामशंकर कठेरिया की गिरफ्तारी की मांग की है।


Share it
Top