देवबंद में 105 वर्षीय स्वामी ब्रह्मानंद सरस्वती के साथ अंतर्राष्ट्रीय ध्यान गुरु स्वामी दीपांकर जी महाराज ने अपने मत का प्रयोग किया

देवबंद में 105 वर्षीय स्वामी ब्रह्मानंद सरस्वती के साथ अंतर्राष्ट्रीय ध्यान गुरु स्वामी दीपांकर जी महाराज ने अपने मत का प्रयोग किया


भले ही उनकी अवस्था 105 वर्ष की हो और नवरात्रों के चलते उनका उपवास भी क्यों ना हो लेकिन मतदान करना मेरा परम कर्तव्य है क्योंकि मतदान से ही राष्ट्र को सबल बनाता है : स्वामी ब्रह्मनंद सरस्वती

देवबंद (गौरव सिंघल)। देवबंद के एक मतदान केंद्र पर 105 वर्षीय स्वामी ब्रह्मानंद सरस्वती एवं अंतर्राष्ट्रीय ध्यान गुरु स्वामी दीपांकर जी महाराज ने अपने मत का प्रयोग किया स्वामी ब्रह्मानंद सरस्वती जी का कहना है कि भले ही उनकी अवस्था 105 वर्ष की हो और नवरात्रों के चलते उनका उपवास भी क्यों ना हो लेकिन मतदान करना मेरा परम कर्तव्य है क्योंकि मतदान से ही राष्ट्र को सबल बनाता है मतदान लोकतंत्र की शक्ति है इसलिए मैं अन्य मतदाताओ से भी अपील करना चाहता हूं कि इस लोकतंत्र के महोत्सव में अपने मत का अवश्य प्रयोग करें उनके साथ उनके शिष्य रोहित कौशिक,विनोदानंद सरस्वती, मनीष त्यागी एवं अन्य ने भी अपने मत का प्रयोग किया।

Share it
Top