आईपीएल : सट्टेबाज सरगना समेत आठ गिरफ्तार, विदेशी मुद्रा बरामद

आईपीएल : सट्टेबाज सरगना समेत आठ गिरफ्तार, विदेशी मुद्रा बरामद


लखनऊ। इण्डियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) में सट्टा लगाने वाले गिरोह की धर-पकड़ के लिए उत्तर प्रदेश की स्पेशल टॉस्क फोर्स (एसटीएफ) ने पूरे प्रदेश में अभियान चलाया है। इसके तहत एसटीएफ ने मंगलवार देर रात कई जनपदों में छापेमारी करके सरगना समेत कानपुर से पांच व वाराणसी से तीन सट्टेबाजों को धर दबोचा है। उनके पास से भारी मात्रा में विदेशी मुद्रा, भारतीय करंसी के सट्टेबाजी का सामान मिला है। यह लोग दुबई में बैठे बुकी से भी सम्पर्क में थे। एसएसपी कुछ ही देर में इसका खुलासा करेंगे।

एसटीएफ सूत्रों की माने तो कानपुर, वाराणसी, फतेहपुर और प्रयागराज समेत कई जनपदों में छापेमारी की। आईपीएल सट्टेबाज का सरगना कानपुर से जितेन्द्र उर्फ जीतू उसके साथी सुमित, मोहित, आशीष और हिमांशु को गिरफ्तार किया है। इनके पास से कानपुर से दो लाख पचहत्तर हजार रुपये नगद, पांच लैपटॉप, तीन स्मार्ट टीवी, राऊटर, वाईफाई, अडैप्टर, कनेक्टर, तीस मोबाइल और 375 विदेशी मुद्रा दिरहम समेत आदि समान बरामद किया है। वहीं, वाराणसी से अशोक सिंह, सुनील पाल व विक्की खान को गिरफ्तार किया है। इनके पास से लाखों रुपये बरामद किए हैं।

सूत्रों के मुताबिक, कानपुर से ही दो ऑनलाइन बेटिंग बॉक्स भी बरामद, प्रत्येक बॉक्स से 10-10 बुकी एक साथ ऑनलाइन करते हैं। बेटिंग बॉक्स में माइक वा स्पीकर की भी व्यवस्था रहती है, जिससे बातचीत को भी रिकार्ड किया जाता है। बेटिंग विवाद की दशा में रिकॉर्डिंग सुनाकर मामले को वही सुलझा लिया जाता है।

पकड़े गए अभियुक्त ने बताया कि ऑनलाइन ऐप ऑरेंज को लैपटॉप पर डाउनलोड किया था। इससे मुख्य बुकी जीतू को भाव पता चल जाता था। फोन के माध्यम से वह छोटे बुकी को जानकारी दी जाती थी। वहीं, कानपुर में छापेमारी के दौरान मौके से फरार सट्टेबाज अजय सिंह वाराणसी के सुंदरपुर का रहने वाला है और उसी की सरपरस्ती में वाराणसी में सट्टेबाजी का बड़ा रैकेट चल रहा था। मौके से एसटीएफ ने उसकी कार व जीतू की लग्जरी कार को भी बरामद कर लिया है।

यह भी जानकारी हुई है कि जीतू के माध्यम से बीस की संख्या मे बूकी ऑनलाइन बेटिंग का काम करते थे। उसके रायपुर ,अजमेर, जयपुर, मुंबई ,दिल्ली व दुबई के बूकी से जीतू के तार जुडे हुए हैं। यह लोग आईपीएल खत्म होने के बाद कानपुर, लखनऊ, फतेहपुर, वाराणसी, प्रयागराज आदि स्थानों पर जगह बदल-बदल कर रहते और उसी सट्टेबाजी की रकम से कारोबार करने लगते थे। मुख्य आरोपित सरगना जीतू द्वारा दुबई में रहकर कई वर्षों तक ऑनलाइन ट्रेडिंग का काम किया। बेटिंग कारोबार के पैसे से जीतू ने मुंबई, कानपुर, लखनऊ, फतेहपुर में करोड़ो रुपये के मकान खरीदे हैं।


Share it
Top