मैनपुरी सीट पर जनता ने दस बार इटावा जिले के निवासी उम्मीदवार के सिर पर बांधा जीत का सेहरा

मैनपुरी सीट पर जनता ने दस बार इटावा जिले के निवासी उम्मीदवार के सिर पर बांधा जीत का सेहरा


इटावा। समाजवादी पार्टी(सपा) संरक्षक मुलायम सिंह यादव के प्रभाव वाली उत्तर प्रदेश की मैनपुरी संसदीय सीट से जनता ने दस बार जीत का सेहरा इटावा जिले के निवासी उम्मीदवार के सिर पर बांधा है।

आजादी के बाद से मैनपुरी सीट पर अब तक हुए 18 संसदीय चुनाव में दस बार इटावा जिले के निवासी उम्मीदवार ने विजय पताका फहराई है। आंकड़ों के मुताबिक 1952 से लेकर के 2014 तक हुए 18 संसदीय चुनावों में इटावा जिले निवासी दस उम्मीदवारों को सांसद बनने का सौभाग्य हासिल किया हुआ है। मैनपुरी ससंदीय सीट से 18 संसदीय चुनावों मे 13 बार यादव उम्मीदवारों ने विजय पाई है।

मैनपुरी सीट से सांसद बने उम्मीदवारों में महराज सिंह यादव 1967, 1971 उदय प्रताप सिंह यादव 1989, 1991, बलराम सिंह यादव 1984, 1998, 1999, मुलायम सिंह यादव 1996, 2004, 2009, 2014, धर्मेंद्र यादव 2004 और तेजप्रताप सिंह यादव 2014 विजयी हुए है। मैनपुरी संसदीय सीट से विजय पाये दसों उम्मीदवार इटावा जिले की जसंवतनगर विधानसभा के रहने वाले रहे हैं।

मैनपुरी संसदीय सीट पर सिलसिलेवार ढंग से नजर डालें तो 1957 में जीते बंशीधर धनगर इटावा जिले की जसंवतनगर विधानसभा के बीबामऊ गांव के रहने वाले थे । 1984 में कांग्रेस के चुनाव चिन्ह पर जीते बलराम सिंह यादव, 1998 ओर 1999 में समाजवादी पार्टी से सांसद बने । बलराम सिंह यादव इटावा जिले की जसंवतनगर विधानसभा के खरगपुर सरैया गांव के रहने वाले थे ।

समाजवादी पार्टी के संरक्षक मुलायम सिंह यादव 1996 में सपा के सिंबल पर जीतने के बाद 2004, 2009 और 2014 में इस सीट से विजयी हुए थे। श्री यादव इटावा जिले के जसंवतनगर विधानसभा के सैफई गांव के रहने वाले है । सैफई गांव के विकास की चर्चाए सारे देश मे जोरदारी के साथ होती है ।

2004 के उपचुनाव में मुलायम सिंह यादव के भतीजे धर्मेंद्र यादव समाजवादी पार्टी के सिंबल से निर्वाचित हुए हैं । धर्मेंद्र यादव इटावा जिले के जसंवतनगर विधानसभा के सैफई के रहने वाले है। 2014 के उपचुनाव में मुलायम सिंह के पौत्र तेज प्रताप यादव इस संसदीय सीट से समाजवादी पार्टी के सिंबल से जीत का स्वाद चख चुके हैं । तेजप्रताप सिंह यादव भी इटावा जिले की जसंवतनगर विधानसभा के सैफई गांव के रहने वाले है ।

मैनपुरी संसदीय सीट से एक की परिवार की तीन पीढियो ने भी यहॉ से अपनी किस्मत का सितारा चमकाया है। जहॉ मुलायम सिंह यादव 1996, 2004, 2009 और 2014 मे जीते वही उनके भतीजे धर्मेंद्र यादव 2004 मे सांसद बने। मुलायम के 2014 मे सीट छोडने पर हुए उप चुनाव मे पौत्र तेजप्रताप सिंह यादव ने जीत दर्ज की है। यह भी एक ऐसा रिकार्ड है जिसे आसानी को कोई भी दरकिनार नही कर सकता है।

इटावा काग्रेंस इकाई के अध्यक्ष उदयभान सिंह यादव का कहना है कि असल मे यादवों की बाहुल्यता वाली मैनपुरी संसदीय सीट के साथ जाने अनजाने मे कुछ ऐसे आकंडे जुड गये है,जो इस सीट को आंकडो के लिहाज से रोचकता बनाये है ।

Share it
Top