पिछली बार लड़े थे बसपा से, इस बार भाजपा ने बनाया उम्मीदवार

पिछली बार लड़े थे बसपा से, इस बार भाजपा ने बनाया उम्मीदवार


भाजपा के वर्तमान सांसद ने ही हराया था बीपी सरोज को

जौनपुर। मछलीशहर सुरक्षित सीट पर वर्तमान सांसद के खराब रिपोर्ट कार्ड को लेकर परेशान भारतीय जनता पार्टी ने इस बार बीपी सरोज पर भरोसा जताया है। बीपी सरोज हाथी की सवारी छोड़ बीते दिनों भगवाधारी बने हैं।

वे वर्ष 2014 में बसपा से भाजपा के खिलाफ चुनाव लड़े थे और दूसरे नंबर पर थे। बीपी सरोज ने 22 मार्च को भाजपा की सदस्यता ग्रहण की थी। भाजपा ने बीपी पर दांव लगाकर जातिगत समीकरणों को साधने का भरपूर प्रयास किया है। इसके साथ ही बसपा के सामने चुनौती खड़ी कर दी है।

बीपी सरोज राजनीति के साथ-साथ व्यवसाय के क्षेत्र में भी अच्छी रसूख रखते हैं। महाराष्ट्र और सतहरिया में उनके बड़े व्यवसायिक प्रतिष्ठान है। वर्ष 2008 में बसपा ने महाराष्ट्र में इन्हें महासचिव बनाया था। बसपा ने उनकी लोकप्रियता का लाभ उठाने के लिए 2014 में मछलीशहर लोकसभा क्षेत्र से अपना उम्मीदवार घोषित किया, लेकिन मोदी की सुनामी में वह पीछे हो गए। वर्ष 2014 चुनाव में भाजपा के रामचरित्र निषाद को जहां 438210 मत मिले वहीं बीपी सरोज को 266055 मत मिले थे। हालांकि लोकसभा चुनाव में तीन बार सांसद रहे सपा के तूफानी सरोज इनसे पीछे थे। राजनीतिक विश्लेषकों के अनुसार भाजपा इस सीट पर गठबंधन को कड़ी चुनौती देती नजर आएगी।

Share it
Top