भाजपा छोड़कर कांग्रेस में शामिल होने वाले सांसद और प्रत्याशी अशोक दोहरे का आरोप..पांच साल भाजपा में हुआ अपमान और मिली उपेक्षा

भाजपा छोड़कर कांग्रेस में शामिल होने वाले सांसद और प्रत्याशी अशोक दोहरे का आरोप..पांच साल भाजपा में हुआ अपमान और मिली उपेक्षा


इटावा। भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) छोड़कर कांग्रेस में शामिल होने वाले उत्तर प्रदेश की इटावा सीट से मौजूदा सांसद और प्रत्याशी अशोक दोहरे ने आरोप लगाया है कि भाजपा ने उन्हें बीते पांच साल में अपमान और उपेक्षा के सिवा कुछ नहीं दिया।

श्री दोहरे ने रविवार को संवाददाताओं से कहा कि अपमान और उपेक्षा के बाद भी उन्होंने भाजपा का साथ नहीं छोड़ा था लेकिन पार्टी ने जब फिर टिकट देने से इनकार किया तो उन्होंने कांग्रेस में शामिल होने का फैसला किया।

उन्होंने कहा कि 2014 में भाजपा में शामिल होकर वह लोकसभा चुनाव के प्रत्याशी बने थे और तभी से उन्हें अपमानित करने का सिलसिला शुरू हो गया था। श्री दोहरे ने कहा कि वह तो अनुशासित पार्टी समझकर आये थे लेकिन टिकट मिलने पर इटावा से लेकर सिकंदरा तक उनके पुतले पार्टीजनों ने ही फूंके।

कांग्रेस प्रत्याशी ने कहा कि 24 मार्च को औरैया में भाजपा की रैली थी लेकिन उसके लिये जो बैनर व होर्डिंग लगाये गये थे उनमें उनका चित्र तक नहीं था जबकि इसका खर्च भी उन्होंने दिया था।

श्री दोहरे ने कहा कि पिछली बार का लोकसभा चुनाव वह पौने दो लाख वोटों से जीते थे लेकिन जब इस बार टिकट नहीं मिला तो उन्होंने कांग्रेस से संपर्क साधा और उन्हें पार्टी ने इस बार प्रत्याशी भी बनाया है। उन्होंने कहा कि 2007 में वह बहुजन समाज पार्टी (बसपा) के विधायक बने थे तो प्रदेश में पार्टी की सरकार बनी थी और 2014 में भाजपा के टिकट पर सांसद बने तो केंद्र में उसकी सरकार बनी।

उन्होंने दावा किया कि इस बार वह दो लाख वोटों से जीतेंगे तो केंद्र में कांग्रेस की सरकार बनेगी और राहुल गांधी प्रधानमंत्री होंगे।


Share it
Top