चाचा-भतीजे की लड़ाई में भाजपा नहीं तय कर पा रही अपना उम्मीदवार

चाचा-भतीजे की लड़ाई में भाजपा नहीं तय कर पा रही अपना उम्मीदवार


फिरोजाबाद। तीसरे चरण में 23 अप्रैल को होने वाले मतदान के लिए 28 मार्च से नामांकन प्रक्रिया आरम्भ हो चुकी है लेकिन भाजपा का उम्मीदवार अभी तक तय नहीं हुआ है। इसलिए भाजपा समर्थकों में बेचैनी के साथ असमंजस की स्थिति बनी हुई है। चर्चा है कि शायद पार्टी फिरोजाबाद व मैनपुरी सीट को लेकर किसी खास फार्मूले पर मंथन कर रही है। फिलहाल भाजपा उम्मीदवार को लेकर जनपद में तरह-तरह की चर्चाओं का बाजार गर्म है। हालांकि भाजपा पदाधिकारी इस सीट पर दमदारी से चुनाव लड़ने का दावा कर रहे हैं।

चाचा-भतीजे कर चुके हैं नामांकन

फिरोजाबाद लोकसभा सीट पर सैफई परिवार के प्रो. रामगोपाल यादव के पुत्र व सपा-बसपा गठबंधन के प्रत्याशी अक्षय यादव एवं प्रगतिशील समाजवादी पार्टी (लोहिया) के राष्ट्रीय अध्यक्ष व फिरोजाबाद लोकसभा सीट के प्रत्याशी शिवपाल यादव जिला निर्वाचन अधिकारी सेल्वा कुमारी जे के समक्ष अपना नामांकन पत्र दाखिल कर चुके हैं। यहां चाचा-भतीजे की लड़ाई में भाजपा किस समीकरण पर मंथन कर रही है, इसकी थाह कोई नहीं ले पा रहा है।

प्रतिदिन उछलते हैं टिकट के दावेदारों के नाम

फिरोजाबाद लोकसभा सीट पर चुनाव आचार संहिता लागू होने के बाद से ही कई नाम टिकट के दावेदारों में उछल रहे हैं लेकिन लगातार देरी होने से टिकट के दावेदार भी अब खामोश बैठ गए हैं और अंदर की रणनीति को भांपने की कोशिश कर रहे हैं। टिकट के दावेदारों में से प्रतिदिन किसी ना किसी का नाम सोशल मीडिया पर उनके समर्थकों द्वारा उछाला जाता है जिससे टिकट के दूसरे दावेदारों के समर्थकों में बैचेनी होती है, लेकिन नतीजा अभी तक शून्य बना हुआ है। अनुमान है कि एक दो दिन में तस्वीर साफ हो जाएगी कि भाजपा यहां क्या चुनावी दांव खेलने जा रही है।

दमदारी से लड़ेंगे चुनाव

भाजपा जिलाध्यक्ष मानवेंद्र प्रताप लोधी का कहना है कि पार्टी यहां दमदारी से चुनाव लड़ेगी। जल्द ही भाजपा हाईकमान उम्मीदवार की घोषणा कर देगा। पार्टी में प्रत्याशी चयन को लेकर मंथन चल रहा है।


Share it
Top