मेरठ: चुनाव को खूनी करने की साजिश नाकाम, अवैध हथियार की फैक्ट्रियां पकड़ी गईं

मेरठ: चुनाव को खूनी करने की साजिश नाकाम, अवैध हथियार की फैक्ट्रियां पकड़ी गईं


मेरठ। लोकसभा चुनाव के दौरान ऑन डिमांड होने वाली हथियारों के जखीरे की सप्लाई रोकते हुए पुलिस ने लिसाड़ी गेट क्षेत्र में चल रही एक अवैध शस्त्र फैक्ट्री का खुलासा किया है। मौके से एक लाख 25 हजार के इनामी रहे बदमाश और उसके साथी को गिरफ्तार करते हुए भारी मात्रा में हथियारों का जखीरा बरामद किया गया है। रोहटा क्षेत्र में भी एक अवैध हथियार फैक्ट्री पकड़ी गई है।

एसएसपी नितिन तिवारी ने शनिवार को पुलिस लाइन में पत्रकार वार्ता करते हुए बताया कि लिसाड़ी गेट पुलिस ने फतेहउल्लापुर बाग के पास खंडहर में चल रही एक अवैध शस्त्र फैक्ट्री का खुलासा किया। मौके से गोला कुआं निवासी समीर उर्फ मेंढक और हुमायूं नगर निवासी सलीम को गिरफ्तार किया गया। आरोपियों के कब्जे से बने और अधबने तमंचे, पिस्टल, मस्कट सहित 95 हथियार और भारी मात्रा में हथियार बनाने के उपकरण बरामद हुए हैं। पूछताछ के दौरान आरोपियों ने बताया कि उन्होंने मुंगेर में हथियार बनाने सीखे थे और इसके बाद मेरठ में फैक्ट्री खोल ली। इस फैक्ट्री में बनाए हथियार सराय बेहलीम निवासी हथियार सप्लायर जहीरूद्दीन और किदवई नगर निवासी नवेद के माध्यम से बेचे जाते थे। आरोपियों ने बताया कि वह लोकसभा चुनाव के लिए ऑन डिमांड हथियार तैयार कर रहे थे। एसएसपी ने बताया कि आरोपी मेंढक एक लाख 25 हजार का इनामी बदमाश रह चुका है। उसके खिलाफ कई मुकदमे दर्ज हैं और वह बड़ा गिरोह चलाता है। उन्होंने बताया कि हथियारों की सप्लाई करने वाले अन्य आरोपियों की तलाश की जा रही है।

जंगल में चला रहे थे अवैध हथियारों की फैक्ट्री, 3 बदमाश पकड़े

रोहटा थाना पुलिस ने एक सूचना पर कार्रवाई करते हुए शुक्रवार देर रात पूठखास के जंगल में छापा मारकर एक अवैध शस्त्र फैक्ट्री का खुलासा किया। मौके से 3 बदमाशों को दबोचते हुए पुलिस ने भारी मात्रा में हथियार बरामद किए हैं। एसओ धनवीर यादव ने बताया कि शुक्रवार की देर रात जंगल में छापा मारकर लडपुरा निवासी दानिश, असलम और शावेज को गिरफ्तार किया गया। मौके से भारी मात्रा में बने और अधबने तमंचे, हथियार बनाने के उपकरण और कारतूस भी बरामद हुए हैं। आरोपियों ने बताया कि वह लोकसभा चुनाव के लिए ऑन डिमांड हथियार तैयार कर रहे थे। एसएसपी नितिन तिवारी ने बताया कि आरोपियों को जेल भेजा जा रहा है।

Share it
Top