कानपुर के तिहरे हत्याकांड में थानाध्यक्ष निलंबित, जांच के आदेश

कानपुर के तिहरे हत्याकांड में थानाध्यक्ष निलंबित, जांच के आदेश


कानपुर। महाराजपुर थाना क्षेत्र के बीजाखेड़ा गांव में रंग लगाने का विरोध करने पर दम्पत्ति समेत तीन लोगों की हत्या के मामले में पुलिस महानिरीक्षक कानपुर परिक्षेत्र ने महाराजपुर थाना अध्यक्ष को निलंबित कर दिया है। उनके खिलाफ विभागीय जांच भी शुरू कर दी गई है।

बीजाखेड़ा गांव में रंग डालने के चलते बीते शुक्रवार को शिवबालक व रतिराम के परिवारों के बीच विवाद हो गया था। विवाद के चलते दोनों पक्षों की ओर से जुटे लोगों ने जमकर लाठी डंडे चले। इस मारपीट की घटना में शिव बालक के बेटे विजय, उसकी पत्नी रीना, चचिया सास ऊषा की मौत हो गई थी। एक ही परिवार के तीन लोगों की मौत की घटना को लेकर गांव में तनाव फैल गया। पुलिस ने घटना को गंभीरता से लेते हुए मुकदमा दर्ज कर कार्यवाही शुरु की। पुलिस ने घटना में रतिराम सहित पांच आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया और जांच शुरू कर दी।

आईजी परिक्षेत्र आलोक सिंह, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक अनंत कुमार ने महाराजपुर थानाध्यक्ष की भूमिका की जांच की। जांच में थानाध्यक्ष शेष नारायण पांडेय की भूमिका उदासीन पाई गई। जिसके चलते उन्हें रविवार को निलंबित कर दिया गया, इसके साथ ही थानाध्यक्ष के खिलाफ विभागीय जांच भी शुरू कर दी गई है। आईजी परिक्षेत्र आलोक सिंह ने बताया कि जांच में घटना की सूचना के डेढ़ घंटे बाद थानाध्यक्ष के मौके पर पहुंचने की बात सामने आई है। वहीं यह भी पता चला है कि शुक्रवार से पूर्व गुरुवार को भी दोनों पक्षों में किसी बात को लेकर विवाद हुआ था। इस विवाद की सूचना पर भी पुलिस पहुंची थी, लेकिन निरोधात्मक कार्यवाही न किए जाने से दोनों पक्षों में अगले दिन इस तरह की घटना सामने आई। जिसमें तीन लोगों की मौत हो गई।

आईजी ने बताया कि घटना में अभी भी कई पुलिसकर्मियों की भूमिका की जांच की जा रही है। वहीं, फरार दो अन्य आरोपियों की भी जल्द पकड़े जाने की कार्रवाई की जा रही है। आईजी परिक्षेत्र में साफ किया कि घटना में किसी भी प्रकार के जातीय संघर्ष की बात सामने नहीं आई है। यह पूरी तरह से निराधार है। दो पक्षों के विवाद हो या कोई अन्य घटना, उन्हें जाति-धर्म से कुछ लोगों द्वारा जोड़कर प्रचारित करने व राजनीतिक रंग देने वालों को चिन्हित किया जा रहा है। उनके खिलाफ कड़ी से कड़ी कार्रवाई की जाएगी। ऐसी घटनाओं पर अंकुश लगाया जा सके इसको देखते हुए कानपुर परिक्षेत्र में सभी अधिकारियों, थाना पुलिस कर्मियों को जातीय व समुदाय विशेष की घटनाओं में त्वरित कार्रवाई किए जाने की आदेश दिए गए हैं।

Share it
Top