अगले महीने घर से निकलनी थी बेटी की डोली, उठानी पड़ी अर्थी



सुलतानपुर। कौन जानता था कि अगले महीने घर से जिस बेटी की डोली उठनी थी, उसी बेटी की शनिवार को अर्थी उठानी पड़ी।

दीवानी कोर्ट के पेशकार शास्त्री नगर निवासी हरिराम यादव की बेटी किरन यादव (25) ग्राम विकास अधिकारी थी। 6 दिन पहले उसकी सगाई हुई थी जिसके कारण उसके हाथों की मेहंदी भी नहीं उतरी थी। अप्रैल महीने में किरण की शादी थी, इसलिए घर में उल्लास का माहौल था। कादीपुर कोतवाली क्षेत्र के बरुवारी पुर गांव के पास शुक्रवार को एक बुज़ुर्ग को बचाने में अनियंत्रित बोलेरो ने सड़क के किनारे खड़े पांच लोगों को रौंद दिया। हादसे में सड़क किनारे खड़ी ग्राम विकास अधिकारी किरन यादव (25) और मैनेपारा गांव की श्रीरामेश्वर महादेव मंदिर के पुजारी सीताराम की मौके पर हो गई। सैदपुर ग्राम प्रधान बुद्धू मिश्र (45) व चंद्रभान दूबे व एक अन्य को गंभीर अवस्था में सीएचसी कादीपुर में भर्ती कराया गया। हालत नाजुक होने पर तीनों को जिला अस्पताल रेफर कर दिया गया है। दुर्घटना के बाद चालक मौके से फरार गया। हादसे के बाद परिवार में चल रही शादी की तैयारियां मातम में बदल गईं और शनिवार को परिजनों ने किरण यादव का अंतिम संस्कार कर दिया।

Share it
Top