देवबंद के गांव पनियाली कासिमपुर में चल रहे 4 दिवसीय सालाना जोड़ मेले में कीर्तन दरबार हुआ आयोजित


देश के प्रसिद्ध रागी जत्थों ने गुरवाणी गायन कर संगतों को निहाल किया

देवबंद (गौरव सिंघल)। देवबंद के गांव पनियाली कासिमपुर में चल रहे 4 दिवसीय सालाना जोड़ मेले के तीसरे दिन महान कीर्तन दरबार का आयोजन किया गया। जिसमें देश के प्रसिद्ध रागी जत्थों ने गुरवाणी गायन कर संगतों को निहाल किया। संत बाबा अकाल पुरख सिंह जी की बरसी के रूप में पनियाली के ऐतिहासिक गुरूद्वारे में प्रतिवर्ष लगने वाले सालाना जोड़ मेले में संगतों को सम्बोधित करते हुए भाई गुरफतेह सिंह दिल्ली वालों ने कहा कि माता-पिता का स्थान इंसान के जीवन में सबसे बड़ा होता है। जो अपने माता-पिता की सेवा कर लेता है, समझो उसने परमात्मा को पा लिया। माता -पिता की सेवा न करके चाहे कितने भी पुण्य कमा लो सब व्यर्थ है। भाई बलप्रीत सिंह लुधियाना ने कहा कि पनियाली का गुरूद्वारा छठे पातशाह गुरू हरगोबिंद साहिब जी की चरण स्पर्श भूमि होने के कारण पवित्र स्थान है। गुरूद्वारे की सेवा करने वाले बाबा अकाल पुरख सिंह जी बड़ी करनी के मालिक थे। उन्होंने संगतों से वाहेगुरू का सिमरन करते हुए गुरू ग्रंथ साहिब जी के उपदेशों पर चलकर अपना जीवन सफल करने की अपील की।

इससे पूर्व गुरूद्वारा साहिब में चल रहे श्री अखंड पाठ साहिब की समाप्ति के बाद कीर्तन दरबार सजाया गया। जिसमें भाई गुरफतेह सिंह दिल्ली, भाई बलप्रीत सिंह (लुधियाना ), बाबा मनप्रीत सिंह (खरड़) खरड़ , भाई गुरमीत सिंह परदेसी (मेरठ) व भाई जोगा सिंह (मुजफ्फरनगर) ने गुरवाणी का गायन कर संगतों को निहाल किया। हजूरी रागी भाई काबलतोड़ सिंह ने अरदास की। मंच संचालन हरजीत सिंह ने किया। कीर्तन उपरांत निशान साहिब के चोले की सेवा की गई। कार्यक्रम में दिल्ली, पंजाब, हरियाणा, मुजफ्फरनगर, सहारनपुर, नागल व देवबंद की संगतों ने भाग लिया। बाबा रणजीत सिंह ने बताया कि सोमवार को विशाल नगर कीर्तन निकाला जायेगा। कार्यक्रम में बाबा रणजीत सिंह, रविंद्र सिंह, हरजीत सिंह, मनमोहन सिंह, इंद्रजीत सिंह, सरदार जरनैल सिंह, गुरदीप सिंह, काबलतोड़ सिंह, इंद्रपाल सिंह सेठी, कुलजिंदर सिंह, हनी सेखों, कंवरपाल सिंह, राजपाल सिंह, देवेंद्र सिंह, गुरविंदर सिंह, भगत सिंह, जोधा सिंह, गुरजोत सिंह सेठी, शक्ति सिंह, अमनदीप सिंह, खुशप्रीत सिंह आदि मौजूद थे।

Share it
Top