'एक घंटे में तय होगा मेरठ से दिल्ली का सफर'

एक घंटे में तय होगा मेरठ से दिल्ली का सफर


मेरठ। दिल्ली से मेरठ तक के सफर को कम खर्च पर सुगम, एवं सुरक्षित बनाने की कवायद को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने मूर्त रूप दिया। गाजियाबाद में प्रधानमंत्री ने भारत के पहले रीजनल रैपिड ट्रांजिट सिस्टम (आरआरटीएस) के प्रथम काॅरीडोर दिल्ली-मेरठ का शिलान्यास किया। इस कार्यक्रम का मेरठ में सजीव प्रसारण किया गया। मेरठ में केंद्रीय शहरी आवास राज्य मंत्री हरदीप पुरी व प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह ने मेरठ पहुंचकर इसकी सराहना की।

चौधरी चरण सिंह विवि के प्रेक्षागृह में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के गाजियाबाद जिले के कार्यक्रम का लाइव प्रसारण किया गया। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि आवास एवं शहरी मामलों के केन्द्रीय राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) हरदीप सिंह पुरी ने मेरठवासियों को बधाई दी। उन्होंने कहा कि आरआरटीएस का यह शिलान्यास मेरठ में नई क्रान्ति के साथ विकास एवं रोजगार के नये आयामों को अपने साथ लेकर आयेगा। सरकार का उददेश्य इस परियोजना मात्र के शिलान्यास से ही नहीं है बल्कि इसको निर्धारित समय से पूर्ण कराकर दिल्ली से मेरठ की दूरी को 01 घंटे में पूर्ण कराना है। उन्होंने कहा कि यह रेल काॅरीडोर तीव्र गति, उच्च आवृति और अधिक क्षमता वाली रेल आधारित सेवा है जो वातानुकूलित , विश्वसनीय और सुरक्षित, प्रदूषण रहित होने के साथ क्षेत्रीय नोडो को आपस में जोड़कर सार्वजनिक परिवहन को आसान बनायेगी। उन्होंने कहा कि यह परियोजना मेरठ ही नहीं बल्कि आस-पास के कस्बों के लिए वरदान साबित होगी।

प्रदेश के चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री व जनपद प्रभारी मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह ने कहा कि केन्द्र सरकार एक ऐसी सरकार है जो बिना किसी भेदभाव के विकास कार्यो को गति प्रदान कर देश की रीढ़ को और अधिक मजबूत कर रही है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री की उर्जावान एवं सकारात्मक सोच यही है कि इस आरआरटीएस के शिलान्यास के बाद हर गरीब व्यक्ति कम पैसो में सुगम और सुरक्षित यात्रा कर सकेगा। उन्होंने कहा कि आरआरटीएस का शिलान्यास विश्व महिला दिवस के अवसर पर केन्द्र सरकार की ओर से महिला कर्मियों को तोहफा है जिसमें वह पूर्ण सुरक्षा के साथ यात्रा कर सकेंग। इस परियोजना से आमजन के रोजमर्रा जीवन में बहुत बड़ा सुधार आयेगा तथा मेरठ से गाजियाद से दिल्ली, नोएडा का सफर मिनटों में तय होगा।

सांसद राजेन्द्र अग्रवाल ने कहा कि मेरठवासियों के लिए आज का यह दिन बहुत बड़ी उपलब्धि एवं खुशी का दिन है जिसके लिए हमें अपने यश्श्वसी प्रधानमंत्री को धन्यवाद ज्ञापित करना चाहिए कि उनके प्रयास से ही मेरठ को आरआरटीएस की इतनी बड़ी सौगात मिली है। उन्होंने इस परियोजना से मेरठ का चित्र बदलेगा जिससे किसानों, उद्योगो एवं युवाओं को नये अवसर प्राप्त होंगे।

एनसीआरटीसी के प्रबंध निदेशक विनय कुमार ंिसंह ने बताया कि भारत के पहले रीजनल रैपिड ट्रांजिट सिस्टम (आरआरटीएस) दिल्ली -गाजियाबद-मेरठ की लंबाई 82.15 किलोमीटर है। इसके निर्माण 30,274 करोड़ रूपये का व्यय आयेगा। 82.15 लम्बे आरआरटीएस काॅरीडोर में 16 स्टेशन हांेगे जिसमें मेरठ में दो अंडर ग्राउड तथा चार ऐलीवेटिड स्टेशन होगें। उन्होंने बताया कि यह ट्रेन 160 किमी प्रति घंटे के रफ्तार से दौड़गी और 01 घंटे में दिल्ली से मेरठ तक के सफर को तय करेगी। इस अवसर पर भाजपा जिलाध्यक्ष रविन्द्र भड़ाना, महानगर अध्यक्ष मुकेश सिंघल, पूर्व प्रदेश अध्यक्ष लक्ष्मीकांत वाजपेयी, एमएलसी डाॅ. सरोजनी अग्रवाल, विवि कुलपति प्रो. एनके तनेजा, जिलाधिकारी अनिल ढीगरा, मुख्य विकास अधिकारी आर्यका अखौरी, सिटी मजिस्ट्रेट संजय पाण्डेय आदि मौजूद थे।


Share it
Top