सेना की कामयाबी से चहका सोशल मीडिया, लोगों के चेहरे चमके

सेना की कामयाबी से चहका सोशल मीडिया, लोगों के चेहरे चमके


लखनऊ- जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में 12 दिन पहले आत्मघाती हमले के शिकार 42 शहीदों के गम में डूबे लोगों के लिये मंगलवार की सुबह सुकून भरी थी। जैश ए मोहम्मद समेत पाकिस्तान परस्त कई आतंकी संगठनों के ठिकानो पर वायुसेना की कार्रवाई का लोगों ने तहेदिल से इस्तकबाल किया।

लखनऊ,वाराणसी,बरेली और कानपुर समेत उत्तर प्रदेश के कई जिलों में वायुसेना की कार्रवाई की खबर टीवी चैनलों के माध्यम से लोगों को मिली जिसे सुनते ही बुझे चेहरों पर मुस्कान आ गयी। लोगबाग तहेदिल से सेना की तारीफ कर रहे थे और उनकी हौसलाफजाई करते दिखायी पड़े। कई स्थानों पर लोगों ने पटाखे फोड़े और मिठाई बांट कर अपनी खुशी का इजहार किया।

सुबह सवेरे 'गुड मार्निंग' के संदेशो की बजाय व्हाट्सएप और फेसबुक में सेना की तारीफ में कसीदे गढ़े जा रहे थे वहीं ट्विटर आैर इंस्ट्राग्राम भी तड़के से ही सक्रिय हो चुका था। टीवी स्क्रीनो पर चिपके लोग पल पल की जानकारी हासिल करने में जुटे थे और अपने सगे संबधियों और दोस्त यारों को ये सूचनाये फोन और सोशल मीडिया के जरिये साझा करते दिखायी पड़े।

राजनीतिक दलों के नेता भी अपने आधिकारिक अकाउंट से भारतीय सेना को मुबारकबाद दे रहे थे हालांकि कई ने अपने राजनीतिक हितों के मद्देनजर मोदी सरकार पर सेना काे छूट देने का देर से लिया गया फैसला करार दिया। सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने ट्वीट कर वायुसेना को इस उपलब्धि के लिये मुबारकबाद दी वहीं बसपा सुप्रीमो मायावती ने इसे सही मगर देर से लिया गया कदम बताया।

लखनऊ में हजरतगंज क्षेत्र में रेडीमेड कपड़ो के व्यापारी दुर्गेश मेहता ने कहा कि सेना के शौर्य और पराक्रम पर हर भारतीय को नाज है। आज की कार्रवाई हर देशवासी को सुकून देगी। आतंकी शिविरों को नेस्तानाबूद कर सेना ने पुलवामा के शहीदों का बदला लिया है अभी ऐसे और भी शिविर पड़ोसी देश की धरती पर हो सकते हैं।

अमीनाबाद में लकड़ी के कारोबारी अफजाल अंसारी ने चहकते हुये कहा कि वायुसेना की सर्जिकल स्ट्राइक पडोसी देश को सबक है कि समय रहते आतंकी शिविरों को खुद ही हटा ले वरना और भी कड़ी कार्रवाई के लिये तैयार रहे। लकडी के टाल के बगल में पान मसाले की गुमटी लगा कर बैठे फहीम ने कहा कि देश की रक्षा की खातिर हम कुछ भी कर गुजरने को तैयार हैं।

इंदिरानगर में सी ब्लाक निवासी सरकारी मुलाजिम राजेश अग्रवाल ने कहा कि सेना की कार्रवाई अदभुद है लेकिन आतंक का पनाहगार पडोसी देश पलटवार कर सकता है जिसके लिये सेना के साथ साथ हर देशवासी को चौकन्ना रहना होगा। सीमा पर सेना मुंहतोड़ जवाब देने को तैयार बैठी है जबकि हम आपके के बीच में छिपे संदिग्धों की पहचान कर उनकी गतिविधि की जानकारी सुरक्षाबलों को देना सबकी जिम्मेदारी है।

आशियाना निवासी पूर्व सैन्यकर्मी विवेक चौहान ने कहा कि सोशल मीडिया लोगों को सुरक्षा के बारे में जागरूक करने का मजबूत जरिया है लेकिन इसका बेजा इस्तेमाल मसलन गैर जरूरी उन्माद फैलाने वाली पोस्टों से खबरदार रहना होगा। सोशल मीडिया में ऐसी कोई सूचना फारवर्ड करने से बचना चाहिये।


Share it
Top