गाजियाबाद कांग्रेस में गुटबाजी एक बार फिर सड़क पर, मुख्यालय पर प्रदर्शन की चेतावनी

गाजियाबाद कांग्रेस में गुटबाजी एक बार फिर सड़क पर, मुख्यालय पर प्रदर्शन की चेतावनी


गाजियाबाद। कांग्रेस का राष्ट्रीय नेतृत्व भले ही पार्टी में गुटबाजी पर अंकुश के लिए गंभीर प्रयास कर रहा हो, लेकिन गाजियाबाद के कांग्रेसी अपनी आदत से बाज नहीं आ रहे हैं और गुटबाजी को लगातार हवा दे रहे हैं। एक बार फिर कांग्रस में गुटबाजी सड़क पर आ गई है।

विगत दिनों नगर निगम के कार्यकारिणी सदस्य चुने गए वार्ड 53 के पार्षद मनोज चौधरी ने वार्ड 67 के पार्षद अजय शर्मा के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। मनोज कुमार ने इसको लेकर सोशल मीडिया पर बायकायदा एक बयान जारी किया है, जिसमें अजय शर्मा पर न केवल पार्टी के खिलाफ काम करने का आरोप लगाया है बल्कि उन पर भ्रष्टाचार का आरोप भी लगाया है।

इस पर अजय शर्मा ने कहा है कि उन्होंने पार्टी के विरोध में कोई काम नहीं किया है जहां तक भ्रष्टाचार की बात है तो पूरा शहर मेरे बारे में जानता है। मुझे इसको लेकर कोई सर्टिफिकेट देने की जरूरत नहीं है।

बता दें कि 23 फरवरी को नगर निगम कार्यकारिणी का चुनाव हुआ था। जिसमें भाजपा, कांगे्रस व बसपा-सपा गठबंधन के प्रत्याशी खडे हुए थे। इस चुनाव में अंतिम समय तक चारों ही राजनीतिक दल अपने प्रत्याशी को चुनाव जिताने का प्रयास करते रहे और राजनितिक शह-मात का खेल चलता रहा और नतीजे भी इसी तरह के आए। भाजपा व कांग्रेस जहां अपने प्रयासों में जहां पूरी तरह से कामयाब रहे वहीं बसपा-सपा गठबंधन धराशाही हो गया। गठबंधन प्रत्याशी के पास काफी ज्यादा वोट होने के बावजूद चुनाव हार गया। चुनाव से ठीक पहले वार्ड 11 के पार्षद विनोद कुमार ने कांग्रेस के बागी प्रत्याशी के रूप में नामांकन दाखिल कर दिया। जबकि कांग्रेस ने वार्ड 53 के प्रत्याशी मनोज चौधरी को अपना अधिकृत प्रत्याशी घोषित किया और उनके

पक्ष में व्हिप जारी किया। महानगर अध्यक्ष से लेकर कई अन्य वरिष्ठ कांग्रेसियों ने विनोद कुमार से नामांकन वापिस लेने को कहा लेकिन उन्होंने अनसुना करते

हुए चुनाव मैदान में डटे रहे। कार्यकारिणी के चुनावी नतीजे चौकाने वाले आए। कांग्रेस के अधिकृत व बागी प्रत्याशी दोनों ही चुनाव जीत गए जबकि बसपा-सपा गठबंधन के प्रत्याशी संघदीप तोमर चुनाव हार गए। लेकिन कार्यकारिणी के चुनाव के बाद कांगे्रस में गुटबाजी और तेज हो गई है।

कार्यकारिणी का चुनाव जीते कांग्रेस के अधिकृत प्रत्याशी मनोज चौधरी ने रविवार को पार्षद अजय चौधरी व कार्यकारिणी सदस्य विनोद कुमार के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। उन्होंने सोशल मीडिया पर एक बयान जारी किया है, जिसमें उन्होंने अजय शर्मा पर पार्टी के खिलाफ काम करने का आरोप लगाया है। साथ ही उन्होंने विनोद कुमार को पार्टी से बर्खास्त करने की मांग की है। उनका कहना है कि विनोद कुमार ने पार्टी व्हिप के खिलाफ जाकर चुनाव लड़ा और जो पूरी तरह से अनुशासनहीनता है। उन्होंने चेतावनी दी है कि यदि बुधवार तक विनोद कुमार को बर्खास्त नहीं किया गया तो वह 24 अकबर रोड नई दिल्ली स्थित मुख्यालय पर अनशन करेंगे।

अजय शर्मा का कहना है कि उन्होंने पार्टी के विरोध में कोई कार्य नहीं किया। मनोज चौधरी मेरे बडे भाई हैं और उनके आरोपों के बारे में कुछ नहीं कहूंगा। उनका कहना है कि कार्यकारिणी के चुनाव में कांग्रेस पार्टी के दो सदस्य चुने गए और बसपा-गठबंधन को पटखनी दे दी। इसके लिए उनका सम्मान होना चाहिए, लेकिन विरोध क्यों हो रहा है यह बात समझ से परे हैं। अजय का कहना है कि जहां तक भ्रष्टाचार की बात है तो इस बारे में भी मैं कुछ नहीं कहूंगा चूंकि पूरा शहर मेरे बारे में जानता है।


Share it
Top