बरेली: सेना के खिलाफ विवादित टिप्पणी करने वाली तीन कश्मीरी छात्राओं के विरूद्ध मुकदमा दर्ज

बरेली: सेना के खिलाफ विवादित टिप्पणी करने वाली तीन कश्मीरी छात्राओं के विरूद्ध मुकदमा दर्ज


बरेली । उत्तर प्रदेश की बरेली पुलिस ने सेना के खिलाफ आपत्तिजनक टिप्पणी करने वाली टीम तीन कश्मीरी छात्राओं के खिलाफ मामला दर्ज किया है।

पुलिस प्रवक्ता ने शनिवार को बताया कि भारतोय पशु चिकित्सा अनुसंधान संस्थान (आइवीआरआइ) में पढ़ने वाली तीन कश्मीरी छात्राओं के विरूद्ध सेना के खिलाफ विवादित टिप्पणी करने के आरोप में इज्जतनगर पुलिस ने शुक्रवार देर शाम मुकदमा दर्ज किया है।

उन्होंने बताया कि डॉ उफक, डॉ. शामिया इरशाद, और डॉ.हुमेरा फयाज खानखाशी ने पुलवामा हमले के बाद सोशल मीडिया पर सेना के खिलाफ आपत्तिजनक टिप्पणी की थी। मामला अभिसूचना शाखा के माध्यम से आइवीआरआइ प्रबंधन तक पहुंचा तो जांच में छात्राओं को दोषी पाया गया।

प्रबंधन ने एक छात्रा का नाम काटते हुए बाकी पर अनुशासनात्मक कार्रवाई की। सूचना पर भाजपा विधायक राजेश मिश्रा उर्फ़ पप्पू भरतौल,भाजपा जिलाध्यक्ष रविंद्र राठौर ने आइवीआरआइ निदेशक को ज्ञापन दिया।

बरेली के एसएसपी मुनिराज जी ने बताया कि विहिप महानगर उपाध्यक्ष अमित शर्मा ने छात्राओं के खिलाफ इज्जतनगर थाने में तहरीर दी।

उन्होंने बताया कि कश्मीरी छात्राओं पर धारा 505 (1) के तहत मुकदमा दर्ज कर लिया गया। जाँच

के बाद कार्रवाई होगी। अब खुफिया विभाग के निशाने पर आपत्तिजनक पोस्ट बनाने वाले हैं। पता लगाने का प्रयास किया जा रहा है कि जिस पोस्ट को छात्राओं ने अपनी टिप्पणी के साथ आगे बढ़ाया, वह किसके दिमाग की उपज है।उस मास्टरमाइंड को तलाशने के बाद उस पर भी कार्रवाई की जाएगी।

कश्मीरी छात्राओं ने सोशल मीडिया पर आए एक संदेश को कुछ लोगो को फारवर्ड करते हुए उस पर अपनी राय भी पोस्ट की थी। जिसके बाद खुफिया विभाग सक्रिय हुआ और आइवीआरआइ प्रशासन से बात की।

आइवीआरआइ के निदेशक डा आरके सिंह ने बताया कि दो छात्राओं डॉ. उफक और डॉ. सामिया इरशाद की फेलोशिप और स्कॉलरशिप रोक दी गई है,उन्हें सिर्फ संस्थान में पढ़ने की छूट दी गई है। चेतावनी भी दी गई कि भविष्य में ऐसा कोई पोस्ट करने पर उन्हें निष्कासित कर दिया जाएगा। हालांकि दिसंबर 2018 से संस्थान नहीं आ रही मास्टर ऑफ वेटनरी साइंस की तीसरी छात्रा डॉ. हुमैरा का नाम काट दिया है।


Share it
Top