सहारनपुर में मिलावटी शराब पीने से हुई मौतों के बाद बागपत में नहीं मिली शराब की भट्ठी, पर हो रही तस्करी

सहारनपुर में मिलावटी शराब पीने से हुई मौतों के बाद बागपत में नहीं मिली शराब की भट्ठी, पर हो रही तस्करी


बागपत। सहारनपुर में मिलावटी शराब पीने से हुई मौतों के बाद बागपत में पुलिस कप्तान ने बैठक लेकर सभी थानेदारों को इस पर गंभीरता के साथ कदम उठाने के आदेश दिये हैं । जिसके बाद जनपद में पुलिस ने अवैध शराब की बिक्री करने वालों पर शिकंजा कसते हुए दो दर्जन लोगों की गिरफ्तार किया है और साथ ही लाखों की शराब भी पकडी है।

तीन राज्यों की सीमा से सटे बागपत जनपद में शराब का खेल ऐसा है कि जिसके खेल से खाकी और खादी भी नहीं बच पायी है। आबकारी और स्थानीय पुलिस की मिली भगत से चलने वाले इस खेल में लोगों को सस्ता जहर बांटा जाता है। जिसकी कमाई से कई सफेदपोश भी मालामाल हो रहे हैं । चुनाव के समय तो इसकी बिक्री और भी अच्छे दामों पर होती है बागपत शहर की बात करे तो यहां के चौराहे और यमुना तट से सटी कालोनियों में भी शाम के समय परचून की दुकानों पर शराब आसानी से मिल जायेगी। एक समय था जब यहां कच्ची शराब भी बनायी जाती थी लेकिन स्थानीय लोगों ने मीडिया और समाजिक लोगों के सहयोग से इस पर लगाम तो लगा दी लेकिन तीन राज्यों की सीमा पर होने वाली अवैध शराब की तस्करी नहीं रोक पाये। ब्रांड वाली शराब की बोतलों में मिलावटी शराब का कारोबार यहां जोरों से चल रहा है।

हरियाणा में कंपनियों को आर्डर पर जिस ब्रांड का आर्डर मिलता है उसी लेवल की शराब तैयार कर दी जाती है। मिलावटी शराब को पीने से आदमी धीरे धीरे मौत के आगोश में चला जाता है। इसलिए कभी यहां पर हल्ला नहीं मचता लेकिन अवैध रूप से होने वाली तस्करी और शराब की बिक्री आज तक यहां पर नहीं रूक पायी है । आबकारी विभाग यहां के स्थानीय शराब माफियों से मिलकर लोगों की जिंदगी से खेल रहा है। सहारपुर में मिलावटी शराब से हुई मौतों के बाद यहां के प्रशासन ने भी सख्त कदम उठाया है। सभी थानेदारों को इस पर लगाम लगाने के आदेश मिलते ही गुडवर्क दिखाने के लिए थानेदारों ने दो दर्जन लोगों की गिरफ्तारी कर डाली और लाखों की शराब भी जब्त की है। एसपी बागपत शेलेष कुमार पांडे का कहना है कि शराब की तस्करी पर पुलिस की नजर रहती है और समय समय पर छापेमारी कर शराब तस्करों को गिरफ्तार किया जाता है।

Share it
Top