उप्र के 22 लाख कर्मचारी हड़ताल पर, मुख्य सचिव से वार्ता देर शाम को

उप्र के 22 लाख कर्मचारी हड़ताल पर, मुख्य सचिव से वार्ता देर शाम को



लखनऊ। पुरानी पेंशन बहाली की मांग को लेकर सरकार द्वारा एस्मा लगाने के बावजूद उत्तर प्रदेश के करीब 22 लाख कर्मचारी बुद्धवार से हड़ताल पर हैं।

हड़ताल की वजह से कई कार्यालयों के ताले नहीं खुले। राज्य कर्मचारी परिषद के संयोजक हरि किशोर तिवारी ने बताया कि अभी यह हड़ताल 12 फरवरी तक चलेगी। इसके बाद भी सरकार नहीं चेती तो यह अनिश्चितकालीन हो जायेगी। इसमें कर्मचारी, शिक्षक, अधिकारी सभी शामिल हैं। लगभग 150 संगठनों के करीब 22 लाख कर्मचारियों व शिक्षक अब पीछे हटने को तैयार नहीं हैं। हमारा नारा 'एक ही मिशन-पुरानी पेंशन' है।

तिवारी के अनुसार बिजली और स्वास्थ्य जैसी आवश्यक सेवाओं को हड़ताल से अलग रखा गया है। इससे पहले कर्मचारियों ने कल यहां मोटर साइकिल रैली निकाली थी।अयोध्या,बस्ती,कानपुर बरेली,अम्बेडकरनगर,गोरखपुर समेत अन्य जिलों में हड़ताल का व्यापक असर दिखायी दे रहा है।

कई जिलों में खासतौर पर विकास भवन में स्थित कार्यालयों के ताले नहीं खुले। राजधानी लखनऊ के जवाहर भवन और इन्दिरा भवन में कमोवेश यही स्थिति रही। हड़ताल को देखते हुये सुरक्षा के व्यापक बन्दोबस्त किये गये हैं। कहीं से अप्रिय घटना की सूचना नहीं हैं। इस बीच मुख्य सचिव अनूप चन्द्र पाण्डेय ने कर्मचारी नेताओं को बातचीत के लिये शाम अपने कार्यालय में बुला लिया है। सम्भावना जताई जा रही है कि इस बैठक में मुद्दे का कुछ समाधान निकालने पर चर्चा होगी।


Share it
Top