सिमी एजेंट के इलाके में ही चंदा क्यों मांग रहे थे कश्मीरी प्रयागराज से कौशाम्बी तक आने की वजह खंगाल रही खुफिया

सिमी एजेंट के इलाके में ही चंदा क्यों मांग रहे थे कश्मीरी प्रयागराज से कौशाम्बी तक आने की वजह खंगाल रही खुफिया


-घाटी से आए लोगों की गतिविधियों की तेज हुई निगरानी

कौशाम्बी। कुंभ मेला की तैयारियों के बीच अचानक परिवार समेत जम्मू-कश्मीर के लोगों का प्रयागराज आना और फिर इसके बाद कौशाम्बी के इक्यावनी शक्ति पीठ में उनका चंदा मांगना। उनकी ये गतिविधि किसी को भी हजम नहीं हो रही है। सिमी एजेंट के इलाके में ही घाटी से आए लोग क्यों चंदा मांग रहे थे। इस सवाल को लेकर खुफिया तंत्र की निगाह टेढ़ी है। खुफिया तंत्र इनकी एक.एक गतिविधि की निगरानी कर रहा है।

जम्मू-कश्मीर से प्रयागराज आए लोगों का कनेक्शन खुफिया तंत्र एक सिमी एजेंट से खंगाल रही है। इसकी सबसे बड़ी वजह यह है कि जम्मू कश्मीर की रीनू जानए ताहिरा अख्तर, शबीर अहमद और रईस अहमद सिमी एजेंट के गांव में जम्मू-कश्मीर के हालात की दुहाई देकर चंदा मांग रहे थे। इनकी भाषा भी लोगों की समझ में नहीं आ रही थी। घाटी से आए लोगों का दावा है कि वह अखरोट व मेवा बेचने आए थे। मेवा न बिकने पर उन्होंने चंदा मांगना शुरू किया।

एलआईयू इंस्पेक्टर के साथ इंटेलीजेंस ब्यूरो,आईबी ने घंटों पूछताछ की लेकिन वह एक ही रट लगाए थे कि वह बहुत गरीब हैं और उनकी आर्थिक स्थिति सहीं नहीं है, इसलिए वह ऐसा कर रहे थे। कुंभ मेला पर्व के बीच ही इनके आने को लेकर तमाम तरह की लोगों में आशंकाएं हैं। खुफिया तंत्र भी एकदम से चौकन्ना हो गया। सभी जरूरी कागजात युवक व युवतियों से लेने के बाद पुलिस ने इनको छोड़ दिया है लेकिन निगाह बराबर इन पर है। कौशाम्बी से प्रयागराज पहुंचने तक खुफिया एजेंसियों की निगाह थी। इनकी एक.एक गतिविधि क निगरानी शुरू करा दी गई है।

कुंभ पर पहले भी पकड़े जा चुके हैं घाटी के लोग

कुंभ पर्व पर इसके पहले भी कौशाम्बी से जम्मू-कश्मीर के लोग गिरफ्तार हो चुके हैं। तत्कालीन डीएम चरनजीत सिंह बक्सी के कार्यकाल में वर्ष 2007 में सरायअकिल के एक घर से तीन संदिग्ध लोगों को पकड़ा गया था। पकडे़ गए लोग जम्मू.कश्मीर के रहने वाले थे। इनसे पूछताछ की गई थी। जानकारी होने पर सुरक्षा एजेंसियां इनको अपने साथ पूछताछ के लिए लेकर गई थीं।

एक माह पहले पकड़ा गया दुबई का युवक

कुंभ मेला की तैयारियों के बीच कौशाम्बी में लगातार संदिग्ध लोग पकडे़ जा रहे हैं। एक माह पहले पश्चिमशरीरा थाने की पुलिस ने दुबई के एक युवक को पकड़ा था। वह राहुल राज के नाम से फर्जी आधार कार्ड बनवाकर यहां रह रहा था। अंग्रेजी के अलावा उसके कई भाषाओं की जानकारी थी। इतना ही नहीं वह कम्प्यूटर का मास्टर माइंड बताया जा रहा है। धोखाधड़ी का मामला दर्ज कर पुलिस ने उसे जेल भेज दिया था। पखवारा भर पहले एटीएस के इंस्पेक्टर ने जिला कारागार जाकर कथित राहुल राज से पूछताछ की थी। इसके बाद पश्चिमशरीरा थाने जाकर उसका मोबाइल कब्जे में लिया था। [रॉयल बुलेटिन अब आपके मोबाइल पर भी उपलब्ध ,ROYALBULLETIN पर क्लिक करें और डाउनलोड करे मोबाइल एप ]


Share it
Top