जनता बेरोजगारी से त्रस्त, योगी सरकार नाम बदलने में मस्त..मूलभूत समस्याओं से भटकाने की राजनीति कर रहे हैं सीएम योगी: पिछड़ा समाज महासभा

जनता बेरोजगारी से त्रस्त, योगी सरकार नाम बदलने में मस्त..मूलभूत समस्याओं से भटकाने की राजनीति कर रहे हैं सीएम योगी: पिछड़ा समाज महासभा

लखनऊ। फैज़ाबाद और इलाहाबाद का नाम बदले जाने के खिलाफ लखनऊ स्थित पिछड़ा समाज महासभा कार्यालय में बैठक की गई। बैठक में एक स्वर में इसे मूलभूत समस्यओं से भटकाने की ओछी राजनीति कहा गया। रिहाई मंच की विचारधारा से प्रभावित लोगों ने इसके खिलाफ जन अभियान चलाए जाने का निर्णय लिया।

रिहाई मंच के अध्यक्ष मुहम्मद शुऐब ने कहा कि नाम बदलने और मूर्तियों की राजनीति करके सरकार जनता के धन का दुरूपयोग कर रही है। जिलों के नाम बदलने में आने वाले खर्च से उद्योग, बेरोजगारी, शिक्षा एवं चिकित्सा जैसी मूलभूत जरूरतों को पूरा किया जा सकता था, लेकिन यह सरकार का मानसिक दिवालियापन है कि वो जनता के धन का दुरूपयोग कर रही है।

बैठक में मुहम्मद शुऐब ने कहा कि सरकार मनुवादी एजेंडे के तहत इलाहाबाद और फैज़ाबाद का नाम बदल कर चुनाव से पहले सांप्रदायिक ध्रुवीकरण कर रही है। उन्होंने कहा कि ऑक्सीजन और दवाओं के आभाव में जहां गरीबों की मौत हो रही है। वहीं स्कूलों में अभी तक बच्चों को स्वेटर और जूते भी नहीं मुहैया हो पाए।

नाम बदलने की राजनीति के खिलाफ 11 नवम्बर को लखनऊ स्थित राजनारायण के कार्यालय में फैजाबाद, सुलतानपुर, इलाहाबाद और आजमगढ़ के साथियों के साथ बैठक कर जनाभियान की रूपरेखा तय की जाएगी। बैठक में रिहाई मंच अध्यक्ष मुहम्मद शुऐब, पिछड़ा समाज महासभा संयोजक एहसानुल हक़ मलिक, डॉ एम डी खान, आल इण्डिया वर्कर्स कौंसिल के संयोजक ओपी सिन्हा, प्रणव प्रसाद और राजीव यादव शामिल रहे। रॉयल बुलेटिन की नई एप प्ले स्टोर पर आ गयी है।royal bulletin news लिखे और नई app डाउनलोड करें

Share it
Top