लोकसभा चुनाव : उप्र में कांग्रेस ने मतदाओं को लुभाने के लिये सीधे मिलने की बनायी योजना

लोकसभा चुनाव : उप्र में कांग्रेस ने मतदाओं को लुभाने के लिये सीधे मिलने की बनायी योजना



लखनऊ । उत्तर प्रदेश में दलितों और अन्य पिछड़ी जाति (ओबीसी) मतदाताओं को आकर्षित करने के लिए कई कार्यक्रम शुरू करने के बाद, कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने अब 2019 में होने वाले लोकसभा चुनाव में पार्टी काे मजबूती दिलाने के लिये पहली बार मतदाताओं को लुभाने की योजना बनायी है।

कांग्रेस आम जनता तक पहुंच बनाने के लिये राज्य में पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की पुण्यतिथि 31 अक्टूबर से 90 दिन तक चलने वाले एक अभियान की शुरूआत करेंगी।

उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी के महासचिव विनोद मिश्रा ने शनिवार को यहां बताया कि पार्टी के राज्य और जिला स्तरीय पदाधिकारी पहली बार मतदाताओं तक पहुच बनाने के लिये उनके घरों में जायेंगे। इस दौरान पदाधिकारी पार्टी की नीतियों की जानकारी बारे में जनता को अवगत करायेगे।

कांग्रेस प्रदेश महासचिव ने बताया कि गांव स्तर तक पार्टी को मजबूत बनाने के लिये श्री गांधी ने 90-दिवसीय कार्यक्रम तैयार किया है। लोगों को विशेषकर युवाओं को पार्टी से जोड़ने के लिये पदाधिकारी उत्तर प्रदेश के सभी गांवों का दौरा करेंगे। पार्टी उन युवाओं को जोड़ेगी जो 2019 लोकसभा चुनाव में पहली बार मतदान करेंगे। कांग्रेस कार्यकर्ता इस अभियान में उन लोगों को भी जोड़ेगी जो 2014 के लोकसभा तथा वर्ष 2017 के विधानसभा चुनावों के दौरान अपना वोट देने में बंचित रह गये थे।

श्री मिश्रा ने कहा कि पदाधिकारी युवाओं की पहचान करने के बाद, उन्हें मतदाता सूची में शामिल करने में मदद करेंगे। कार्यकर्ता उन्हें अपने मतदाता आई-कार्ड बनाने में भी मदद करेंगे।

यूपीसीसी के महासचिव ने बताया कि एक बार युवाओं काे मतदाता सूची में जोड़ने के बाद उन्होने उन्हें पार्टी की 'शक्ति ऐप' के साथ जोड़ा जायेगा ताकि वे कांग्रेस के कार्यक्रम और नीतियों काे जान सकें।

उन्होने दावा किया कि इससे न केवल नये मतदाता बल्कि पुराने मतदाताअों को भी पार्टी के जोड़ने में मदद मिलेगी। मतदाताओं को 'शक्ति ऐप' के साथ जोड़ा जायेगा ताकि वे कम से कम वोट देने से पहले कांग्रेस और अन्य राजनीतिक दलों के बीच का अंतर जान लेंगे।

श्री मिश्रा ने दावा किया कि जनता के साथ बातचीत के दौरान उनसे अगले साल होने वाले लोकसभा चुनाव की चर्चा की जायेगी। मतदाताओं से मिले सुझाओं को पार्टी अध्यक्ष को भेजा जाएगा। उसके सुझावों को पार्टी के घोषणापत्र में शामिल करने के लिये प्राथमिकता दी जायेगी।

Share it
Top