भर्तियों में धांधली की सीबीआई जांच को लेकर युवा मंच ने किया प्रदर्शन

भर्तियों में धांधली की सीबीआई जांच को लेकर युवा मंच ने किया प्रदर्शन



इलाहाबाद। 68500 शिक्षक भर्ती, एलटी परीक्षा सहित डेढ़ साल में हुई भर्ती परीक्षाओं की हाईकोर्ट की निगरानी में सीबीआई जांच कराने, केंद्र व राज्यों में खाली पदों को तत्काल भरने, चयन प्रक्रिया को पारदर्शी व भ्रष्टाचारमुक्त बनाने एवं रोजगार को मौलिक अधिकार में शामिल करने के मुद्दे पर युवा मंच के बैनर पर कलेक्ट्रेट में प्रदर्शन व जुलूस निकाला और प्रधानमंत्री व मुख्यमंत्री को संबोधित ज्ञापन एडीएम प्रशासन को सौंपा।

प्रदर्शन के दौरान युवा मंच के संयोजक राजेश सचान ने कहा कि प्रधानमंत्री द्वारा पारदर्शी व भ्रष्टाचारमुक्त भर्तियों का वादा किया गया था लेकिन सरकार बनने के बाद पहले से भी ज्यादा धांधली हो रही हैं। एसएससी परीक्षा में सुप्रीम कोर्ट तक को कहना पड़ा कि एसएससी परीक्षा का पूरा सिस्टम ही भ्रष्ट है। कहा कि रोजगार संकट बढ़ता जा रहा है और सरकारी विभागों पर खाली लाखों पदों भरने का जो वादा किया गया था, वह जुमला ही साबित हुआ। उन्होंने कहा कि 68500 शिक्षक भर्ती में धांधली उजागर होने के बाद सबूतों को ही जला दिया गया। इसी तरह एलटी परीक्षा में भी भारी धांधली, पेपर लीक होने और एसटीएफ द्वारा साल्वर गैंग के 52 लोगों को पकड़ने के बावजूद परीक्षा निरस्त नहीं की गई।

युवा मंच के अध्यक्ष अनिल सिंह ने योगी सरकार पर धांधली में संलिप्त अधिकारियों को बचाने और लीपापोती करने का आरोप लगाते हुए कहा कि जब धांधली के आरोप आलाधिकारियों व मंत्रियों पर लग रहे हों और मुख्यमंत्री कार्यालय की भूमिका से भी इंकार नहीं किया जा सकता है। तब ऐसे में सचिव स्तर के जांच की निष्पक्षता पर विश्वास नहीं किया जा सकता। ऐसे में चयन प्रक्रिया में युवाओं की विश्वास बहाली के लिए जरूरी है कि हाईकोर्ट की निगरानी में डेढ़ साल में आयोजित सभी परीक्षाओं की सीबीआई जांच कराई जाये।

उन्होंने हैरानी जताई कि 68500 शिक्षक भर्ती घोटाले के उजागर होने के बाद जिस जिम्मेदार अधिकारी को सुबह निलंबित किया गया, उसी ने निलंबन के बाद घोटाले से जुड़े दस्तावेज व साक्ष्य जला दिया। परन्तु अभी तक इस मामले में पुलिस द्वारा एफआईआर तक नहीं दर्ज की गई है। युवा मंच के महामंत्री मनीष सिन्हा व प्रवक्ता राजेन्द्र सिंह यादव ने कहा कि पीजीटी-टीजीटी 2016 के विज्ञापन को 1998 से चली आ रही विसंगति जैसी तकनीकी खामी बता जानबूझ कर निरस्त कर दिया गया। प्रदर्शन व जूलूस में आशुतोष तिवारी, अतुल तिवारी, आइसा नेता सुनील मौर्य, विनोवर शर्मा, अनंत कुमार यादव, बीएड टेट 2011 प्रतियोगी मोर्चा के राजेश कर्मा, राहुल कुमार सिंह, राहुल कुमार सिंह, अरूण मौर्य, जवाहर लाल प्रजापति, अनीस श्रीवास्तव, पवन मौर्य, संतोष कुमार, रमा यादव, रामकृष्ण, अनुज कुमार आदि शामिल रहे।


Share it
Top