योगी के गढ़ में जोरदार प्रदर्शन, एससी-एसटी एक्ट के विरोध में 'मुर्दाबाद के लगे नारे'

योगी के गढ़ में जोरदार प्रदर्शन, एससी-एसटी एक्ट के विरोध में मुर्दाबाद के लगे नारे


गोरखपुर। सवर्णों द्वारा एससी-एसटी कानून के विरोध में या भारत बंद का असर गोरखपुर में भी दिखा। शहर के प्रमुख बाजारों के साथ साथ गांव-कस्बों में भी विरोध प्रदर्शन हुए। विभिन्न सवर्ण संगठनों ने सड़कों पर उतरकर विरोध जताया। इस दौरान भारतीय जनता पार्टी वाली केंद्र सरकार के विरोध में जमकर नारेबाजी हुई।

इस प्रदर्शन में समाज के हर पेशे से जुड़े लोग शामिल रहे। सोशल मीडिया पर बंद के आह्वान के बाद किसी भी बवाल की आशंका को देखते हुए पूरे जिले में भारी मात्रा में पुलिस बल तैनात कर दिया गया है। आला अधिकारी खुद पेट्रोलिंग करते रहे। खबर लिखे जाने तक किसी भी बवाल की सूचना नहीं थी।

सवर्णों द्वारा किये गए इस बंद का असर गोरखपुर में भी देखने को मिला। छिटपुट दुकानों को छोड़कर अधिकतर दुकानें बंद रही। लोग सड़कों पर प्रदर्शन करते रहे। घूम घूमकर बाजारों को बंद कराते रहे। गोरखपुर शहर की हृदयस्थली गोलघर पूरी तरह से बंद रहा। विरोध को देखते हुए शहर का सिटी माॅल भी शाम तीन बजे तक बंद कर दिया गया था। शहर के अन्य बाजारों में भी बंद का खासा असर दिखा। शाम तक शहर में अधिकतर दुकानों के शटर नहीं उठे। हालांकि इनमे से कुछ दुकानदार ऐतियात के तौर पर उठाया कदम बताया। फिर भी ऐसे दुकानदारों की संख्या उंगलियों पर गिनी जा सकती हैं।

एक्ट के विरोध में विभिन्न संगठनों के लोग सड़कों पर थे। लोग एससी-एसटी एक्ट के विरोध में केंद्र सरकार के खिलाफ नारेबाजी भी कर रहे थे। गोला, बांसगांव, चौरीचौरा, खजनी, उनवल, सहजनवां सहित अन्य हिस्सों में भी गुरुवार को बंद का व्यापक असर दिखा। अधिवक्ता, शिक्षक, व्यापार संगठनों से जुड़े सवर्ण और अन्य वर्ग के लोग भी अपने-अपने तरीकों से विरोध प्रदर्शन कर केंद्र सरकार को कोसते रहे।

Share it
Share it
Share it
Top