देवरिया कांड: महिला संवासियों को बरेली मानसिक चिकित्सालय ने किया भर्ती से इंकार

देवरिया कांड: महिला संवासियों को बरेली मानसिक चिकित्सालय ने किया भर्ती से इंकार


कुशीनगर। मां विंध्यवासिनी महिला प्रशिक्षण व समाजसेवा संस्थान बालिका गृह कांड के बाद वहां से स्थानांतरित मानसिक रोगी 21 महिलाएं सरकार के गले की फांस बन गई हैं। इन महिलाओं को बरेली के मानसिक रोग चिकित्सालय ने लेने से इंकार कर दिया है। अब शासन के आदेश के बावजूद देवरिया प्रशासन इन महिलाओं को वापस लेने में हीलाहवाली कर रहा है। नए आदेश के बाद से कुशीनगर प्रशासन ने भी महिलाओं से पल्ला झाड़ लिया है।

इन महिलाओं की वजह से कुशीनगर वृद्धाश्रम में दुर्व्यवस्था फ़ैली है। पहले से रह रहे वृद्ध व्यक्ति पलायन कर रहे हैं सो अलग। बरेली अस्पताल प्रशासन ने जब महिलाओं को लेने से इंकार कर दिया तो निदेशक समाज कल्याण ने 28 अगस्त 18 को आदेश जारी किया कि देवरिया प्रशासन कुशीनगर भेजी गई महिलाओं को वापस देवरिया लाकर उनके पुनर्वास की व्यवस्था करे। पर वृद्धाश्रम के प्रबन्धक प्रदीप कुमार का कहना है कि देवरिया प्रशासन आदेश रिसीव नहीं कर रहा।

देवरिया की संस्था पर अनैतिक कृत्य के आरोप लगने पर जब संस्था सीज हुई तो वहां एक शेड में यह महिलाएं भी रह रही थीं। महिलाओं को कसया वृद्धाश्रम में शिफ्ट किया गया था। वृद्धाश्रम में पूर्व से रह रहे वृद्धजन को इन महिलाओं के आने से दिक्कत होने लगी। कई वृद्ध पलायन कर गए। पहले तो प्रशासन ने महिलाओं को मेडिकल कालेज में भर्ती कराने की कोशिश की। पर मेडिकल कालेज ने साफ मना कर दिया।

वृद्धाश्रम की संचालक संस्था भारतीय ग्रामीण विकास संस्थान ने पूरे मामले से शासन को अवगत कराया जिसके बाद महिलाओं का परीक्षण करा मानसिक रोग अस्पताल बरेली शिफ्ट करने का आदेश जारी हुआ। पर बरेली के अस्पताल ने भी इन महिलाओं को लेने से इंकार कर दिया। समाज कल्याण निदेशक ने 28 अगस्त को समाज कल्याण अधिकारी देवरिया को जिलाधिकारी की निगरानी में महिलाओं को देवरिया लाकर उनके पुनर्वास की व्यवस्था करने को कहा है। देवरिया की समाज कल्याण अधिकारी डीएम शुक्ला का कहना है कि अर्धविक्षिप्त महिलाओं को वापस लाकर उनका पुनर्वास किए जाने से संबंधित शासन का पत्र मिला है लेकिन जिले में अर्ध विक्षिप्त को रखने की कोई व्यवस्था नहीं है। शासन से मिले निर्देश के अनुरूप उनके पुनर्वास की व्यवस्था की जा रही है। जब तक व्यवस्था नहीं होती तब तक अर्ध विक्षिप्त महिलाएं कसया वृद्ध आश्रम में ही रहेंगी।


Share it
Share it
Share it
Top