नवविवाहिता ने पेड़ पर गुजारी रात, बहन की मौत के बाद जीजा से हुई थी शादी

नवविवाहिता ने पेड़ पर गुजारी रात, बहन की मौत के बाद जीजा से हुई थी शादी



फर्रुखाबाद। कोतवाली कायमगंज क्षेत्र में चार माह पूर्व डोली चढ़कर आई दुल्हन ने पेड़ पर चढ़कर पूरी रात गुजारी। बुधवार को सूचना मिलने पर पहंचे प्रभारी निरीक्षक ने नवविवाहिता को पेड़ से उतरवाने और पूछताछ के बाद चिकित्सीय परीक्षण कराते हुए मायके वालों के साथ भेजा।

कोतवाली कायमगंज के ग्राम गौरखेड़ा निवासी दिलीप की शादी जिला कासगंज के नगला समस्त निवासी राकेश कुमार पुत्री ममता से 4 मई 2018 को हुई थी। इससे पहले दिलीप की शादी ममता की बड़ी बहन रितु से 26 अप्रैल 2014 को हो चुकी थी। रितु ने कीटनाशक पीकर आत्महत्या कर ली थी। उससे राकेश को एक बेटा भी है।

दिलीप ने बेटे के नाम 3 लाख रुपये व दो बीघा जमीन करके ससुराल वालों से समझौता कर लिया और साली ममता से शादी कर ली। इस बीच रक्षाबन्धन पर ममता की मां प्रीति व मौसा जसवंत उसे मायके बुला ले गए। ममता का मंगलवार को वहां दादी किरन देवी से विवाद हुआ, तो दादी ने उसे घर से निकालते हुए मर जाने का ताना दिया। इसी बात से गुस्साई ममता घर से चली आई। पैसेंजर ट्रेन से वह शमशाबाद स्टेशन उतरी। यहां से वह टेंपो से थाना कायमगंज के ग्राम करीम नगर रायपुर पहुंची। इस गांव में उसके बहनोई रहते हैं, लेकिन ममता अपनी बहन नीलम, बहनोई अमित के घर न जाकर सड़क के किनारे आम के पेड़ पर चढ़कर पूरी रात बैठी रही।

सुबह ग्रामीणों ने नई नवेली दुल्हन को पेड़ पर बैठा देखकर पुलिस को सूचना दी। इस पर मौके पर पहुंचे इंस्पेक्टर राधेश्याम ने युवती को ले जाकर कायमगंज सीएचसी में डॉक्टरी परीक्षण कराया। महिला सब इंस्पेक्टर श्वेता शर्मा ने ममता के बयान दर्ज किये। ममता ने बताया कि जब वह 18 साल से छोटी थी और पढ़ रही थी उसी समय उसकी मर्जी के बगैर जबरन जीजा राकेश से शादी करा दी गई। जीजा अक्सर गाली देकर प्रताड़ित करता है। अब वह उसके साथ नहीं रहना चाहती है। सूचना मिलने पर दिलीप अस्पताल पहुंचा तो ममता ने उसे दो टूक जवाब दे दिया कि वह उसके साथ नहीं जायेगी। पुलिस ने ममता को उसकी मां को सौंप दिया।


Share it
Top