अटल अस्थि कलश यात्रा में उमड़ा भारी जनसैलाब, दो मंत्रियों समेत जनपद के विधायक रहे शामिल, नारों की गूंज में अटलमय हुआ महानगर

अटल अस्थि कलश यात्रा में उमड़ा भारी जनसैलाब, दो मंत्रियों समेत जनपद के विधायक रहे शामिल, नारों की गूंज में अटलमय हुआ महानगर


झांसी। जब तक सूरज चांद रहेगा, अटल बिहारी का नाम रहेगा और अटल जी का यह बलिदान, याद करेगा हिंदुस्तान जैसे नारों के बीच पूर्व प्रधानमंत्री की अस्थि कलश यात्रा शनिवार सुबह करीब साढ़े 10 बजे सर्किट हाउस से शुरु हो गई। यह यात्रा चर्चित चौराहा इलाईट होते हुए मुक्ता काशी मंच पहुंची। वहां कुछ देर के लिए अस्थि कलश रखा गया। लोगों ने अपने लाडले भारत रत्न अटल बिहारी वाजपेयी के अस्थि कलश पर श्रृद्धा सुमन अर्पित किए। वहां से रथ यात्रा शहर भर में आगे बढ़ी।

जनसंघ के संस्थापक पूर्व प्रधानमंत्री भारत रत्न अटल बिहारी बाजपेयी की अस्थि कलश यात्रा के दौरान पूरा नगर अटलमय नजर आया। अस्थि कलश यात्रा में बड़ी संख्या में लोगों ने शामिल होकर अपने जनप्रिय नेता को अंतिम विदाई दी। इस दौरान शहर के तमाम स्थानों पर उनकी अस्थि कलश यात्रा पर पुष्पों की वर्षा की गई। प्रदेश सरकार के परिवहन मंत्री स्वतंत्रदेव सिंह शुक्रवार देर रात सड़क मार्ग से पूर्व प्रधानमंत्री का अस्थि कलश लेकर यहां पहुंचे। अस्थि कलश को सर्किट हाउस में रखा गया। रात्रि विश्राम के बाद सुबह यहां कई नेताओं और गणमान्य लोगों ने जनप्रिय नेता को श्रद्धांजलि अर्पित की। इसके बाद अस्थि कलश रथ को सुबह मुक्ताकाशी मंच पर ले जाया गया। वहां भारत रत्न के सम्मान में बड़ी संख्या में लोग उपस्थित हुए।

मुक्ताकाशी मंच पर परिवहन मंत्री स्वतंत्र देव सिंह,प्रदेश राज्यमंत्री मन्नू कोरी ,सदर विधायक रवि शर्मा ,गरौठा विधायक जवाहर सिंह राजपूत, बबीना विधायक राजीव सिंह पारीछा ,मऊरानीपुर विधायक बिहारी लाल आर्य, जिलाध्यक्ष संजय दुबे, महानगर अध्यक्ष प्रदीप सरावगी, पूर्व शिक्षामंत्री रवींद्र शुक्ल के अलावा मीडियाकर्मियों और सर्वसाधारण ने राजनीति के महानायक को पुष्पांजलि अर्पित की।

इस रुट से गुजरी अस्थि कलश यात्रा

मुक्ताकाशी मंच से अस्थि कलश रथ यात्रा को शहर के बीचों-बीच से गुजारा गया। यह रथ यात्रा मुक्ताकाशी मंच से जीवनशाह चौराहा, बीकेडी चौराहा, आतिया ताल, पचकुईंया, सिंधी तिराहा,रानी महल, मिनर्वा चौराहा, न्यू रोड, गोविंद चौराहा, झोकनबाग, ईलाइट चौराहा, जेल चौराहा, कचहरी चौराहा,सदर बाजार, तालपुरा चौराहा, बस स्टैंड होते हुए रिसाला चुंगी के लिए रवाना हुई। वहां से यह श्री रामराजा सरकार के धाम ओरछा के लिए प्रस्थान करेगी। पूर्व नियोजित कार्यक्रम के अनुसार वहां वेत्रवंती नदी के कंचना घाट पर उनकी अस्थियों का विसर्जन किया जाएगा।

चाक चौबंद रही सुरक्षा व्यवस्था

रथ यात्रा के दौरान पुलिस प्रशासन की ओर से सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किये गये। इसकी कमान सीओ सिटी जितेन्द्र सिंह परिहार के हाथों में रही। रथ यात्रा के पूरे मार्ग पर सुरक्षा व्यवस्था चाक चौबंद रखी गयी और बड़ी संख्या में पुलिस बल की तैनाती पूरे मार्ग पर की गयी। यही नहीं यातायात प्रभारी सुभाष चन्द्र यादव ने भी रथ यात्रा के रुट चार्ट के अनुसार यातायात को पहले से डायवर्ट कर उचित व्यवस्था रखी।

जन-जन ने किए श्रृद्धा सुमन अर्पित

रथ यात्रा शहर के जिस हिस्से से होकर गुजरी अपार जनसैलाब अपने चहेते नेता के अंतिम दर्शनों के लिये उमड़ पडा। मकानों की छतों और छज्जों पर खड़ी महिलाओं और बच्चों ने पुष्पवर्षा कर अपने चहेते नेता को श्रद्धासुमन अर्पित किये। इस दौरान सांप्रदायिक सौहार्द और एकता की एक अनूठी मिसाल देखने को मिली रथ यात्रा में आया प्रत्येक व्यक्ति का केवल एक ही धर्म और कर्तव्य नजर आया। वह था अपने नेता को आखिरी विदाई देना।

एमएलसी रमा निरंजन पहुंची श्रृद्धासुमन अर्पित करने

सपा समर्थित एमएलसी रमा निरंजन प्रतिनिधि आरपी निरंजन के साथ अपने जन नायक अटल बिहारी बाजपेई की अस्थि कलश पर श्रृद्धासुमन अर्पित करने पहुंची।

मंत्रियों की अनुपस्थिति रही चर्चा का विषय

अस्थि कलश यात्रा में प्रभारी मंत्री मोती सिंह को आना था, किन्तु स्वास्थ खराब होने के चलते वह न आ सके। वहीं उद्योग विकास मंत्री सतीश महाना का आगमन तो लगभग तय था। फिर भी वह यात्रा के दौरान नहीं दिखे। जबकि केन्द्रीय मंत्री और क्षेत्रीय सांसद उमा भारती की ऐसे समय में भी अनुपस्थिति लोगों को चिढ़ाती रही। यात्रा के दौरान लोग इस मुद्दे पर चर्चा करते जनर आए।


Share it
Share it
Share it
Top