हाईकोर्ट की खंडपीठ की मांग को लेकर वकीलों के आंदोलन ने उड़ाए पुलिस प्रशासन के होश

हाईकोर्ट की खंडपीठ की मांग को लेकर वकीलों के आंदोलन ने उड़ाए पुलिस प्रशासन के होश


मेरठ। पश्चिमी उत्तर प्रदेश में हाईकोर्ट की खंडपीठ की मांग को लेकर वकीलों के आंदोलन ने पुलिस प्रशासन के होश उड़ा दिए हैं। हाईकोर्ट बेंच की मांग पूरी नहीं होने पर भाजपा प्रदेश कार्यसमिति की बैठक का विरोध करने के ऐलान पर पुलिस ने सुरक्षा के खासे बंदोबस्त किए हैं। उधर मेरठ में शनिवार को 22 जिलों के वकील जुटेंगे। ऐसे में मेरठ में मुख्यमंत्री की मौजूदगी में बवाल की आशंका से अधिकारी सहमे हुए हैं। मेरठ बार एसोसिएशन की आमसभा में यह प्रस्ताव पारित किया गया था कि सभी वकील शनिवार सुबह नौ बजे यूनिफॉर्म में कचहरी परिसर में जुटेंगे। यहां से सभी अधिवक्ता बाईपास स्थित सुभारती विवि में होने वाली भाजपा प्रदेश कार्यसमिति की बैठक का विरोध करने के लिए रवाना होंगे।

इस आशंका से पुलिस प्रशासन की पेशानी पर बल पड़ गए हैं। शनिवार दोपहर को खुद मुख्यमत्री योगी आदित्यनाथ मेरठ पहुंच जाएंगे। ऐसे में वकीलों के आंदोलन की आशंका से पुलिस अधिकारी परेशान हैं और वकीलों को मनाने की जुगत में लगे हैं।प्रधानमंत्री से नहीं मिलवा पाए भाजपा नेता : हाईकोर्ट बेंच स्थापना केंद्रीय संघर्श समिति के चेयरमैन राजेंद्र सिंह जानी और संयोजक देवकीनंदन शर्मा ने बताया कि केंद्रीय मंत्री वीके सिंह, सांसद राजेंद्र अग्रवाल समेत कई सांसदों ने हाईकोर्ट बेंच को लेकर वकीलों के प्रतिनिधिमंडल की मुलाकात प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से कराने का आश्वासन दिया था। यह आश्वासन आज तक पूरा नहीं हो पाया। ऐसे में साफ है कि भाजपा की मंशा हाईकोर्ट बेंच को लेकर साफ नहीं है। इसलिए आंदोलन का निर्णय लिया गया। शनिवार को पश्चिमी उत्तर प्रदेश के 22 जिलों के वकील कचहरी परिसर मेरठ में इकट्ठा होंगे। यहां से सुभारती विवि पहुंचेंगे। यदि कोई वकील आंदोलन में उपस्थित नहीं होता है तो उस पर अर्थदंड लगाया जाएगा। ऐसे अधिवक्ताओं की सदस्यता समाप्त करने जैसी कार्रवाई भी की जाएगी।

वकीलों के साथ आए कई संगठन : हाईकोर्ट बेंच की मांग को लेकर वकीलों के आंदोलन में कई दूसरे संगठनों ने भी भागीदारी की है। वकीलों को भारतीय किसान यूनियन के रविन्द्र दौरालिया, भारतीय किसान आंदोलन के राष्ट्रीय संयोजक कुलदीप त्यागी, जाट सभा से चैधरी सतवीर सिंह, मेरठ स्कूल फैडरेशन के सचिव राहुल केसरवानी, राज्य कर्मचारी संघ के गणेश प्रसाद, हिन्दू स्वाभिमान संस्था के रवि भट्ट, जिला बार एसोसिएशन के अध्यक्ष राजीव नागर, महामंत्री प्रवीण कुमार सुधार, मेरठ बार के पूर्व अध्यक्ष नरेन्द्रपाल शर्मा, गजेन्द्र सिंह धामा आदि ने समर्थन दिया है।

Share it
Top