बागपत जेल में फिर सताया मौत का खौफ

बागपत जेल में फिर सताया मौत का खौफ


बागपत। बागपत जेल में हुई मुन्ना बजरंगी की मौत के बाद जेल में खौफ बढता रहा है। कैदियों में जहां अभी तक खौफ सता रहा था और कुछ कैदियों को वहां से दुसरी जेलों में भेजा गया है। उसके बाद अब एक और सरकारी मुलाजिम ने खौफ के चलते ड्यूटी से इनकार कर दिया है और अपना तबादला कराने के लिए शासन को पत्र भेजकर अवगत भी करा दिया है। उसके इस फैसले से हड़कंप मच गया है। अधिकारी जांच की बात कर रहे हैं।

बागपत जेल में पूर्वाचल के माफियां मुन्ना बजरंगी की गोली मारकर हत्या के बाद बागपत जेल सुर्खियों में है। दो दिन पूर्व जेल निगरानी समीति ने भी यहां का दौरा किया और पुछताछ के बाद यह ब्यान आया कि बागपत जेल संवेदनशील है। अधिकारी भी मानते हैं कि बागपत जेल खतरे से खाली नहीं है। यही कारण है कि अब तक इस जेल से आधा दर्जन कैदियों को दूसरी जेल में भेजा जा चुका है, लेकिन अब एक और सरकारी अफसर ने शासन को पत्र भेजकर अपने तबादले की मांग कर डाली है जिसके बाद प्रशासन में हड़कंप मचा है। जेल में कैदियों का इलाज करने वाले डाक्टर ने अब कैदियों का इलाज करने से हाथ खडे़ कर दिये है और अपने इस फैसले से शासन को भी अवगत करा दिया है।

डाक्टर का कहना है कि कैदियों द्वारा उस पर दबाव बनाया जाता है कि उनको अस्पताल में भर्ती करा दिया जाये। ताकि वे अपने कुछ अधूरे काम पूरे कर सके। जेल में बंदियों का इलाज के लिए तैनात डॉ.अवधेश कुमार ने डीएम व एसपी से भी सुरक्षा की गुहार लगाई है और बताया कि जेल में बंद कई कैदी नशे के आदी है। नशीली दवाओं का सेवन करने के लिए वह जबरन अस्पताल में भर्ती होना चाहते है। अगर उनकी बात नहीं मानी तो वे जान से मार देगें कई बार उनके साथ गाली गलौच हो चुकी है और मारपीट की नौबत आ चुकी है। इसके कारण डाक्टर ने जेल में इलाज करने से इनकार कर दिया है। वहीं जिलाधिकारी ऋषिरेंद्र ने मामले की जांच के बाद ही कुछ कहने की बात कही है।


Share it
Share it
Share it
Top