मुन्ना बजरंगी हत्या: फतेहगढ़ सेंट्रल जेल के तन्हाई बैरक में तन्हा हुआ राठी, जेल प्रबंधन ने इसलिए लिया बड़ा फैसला

मुन्ना बजरंगी हत्या: फतेहगढ़ सेंट्रल जेल के तन्हाई बैरक में तन्हा हुआ राठी, जेल प्रबंधन ने इसलिए लिया बड़ा फैसला

बागपत । पूर्वांचल के डॉन मुन्ना बजरंगी की जेल में हत्या के आरोपी कुख्यात सुनील राठी को भारी सुरक्षा प्रबंधों के बीच फतेहगढ़ सेंट्रल जेल के लिए रवाना कर दिया गया। सुनील राठी के फतेहगढ़ जेल रवाना होने के बाद स्थानीय अधिकारियों ने राहत की सांस ली है, लेकिन यूपी पुलिस की टेंशन खत्म होती नहीं दिख रही है। वजह, सुनील राठी का धुर विरोधी वेस्ट यूपी का एक लाख का इनामी रहा हरजीत हप्पू भी फतेहगढ़ जेल में बंद है। आशंका है कि बागपत जेल में मुन्ना के मर्डर सरीखी कहानी कहीं फतेहगढ़ में भी न दोहराई जाए। तय किया है कि सुनील राठी और हप्पू को हर हाल में हाई सिक्यॉरिटी तन्हाई बैरक में रखा जाएगा।
सुनील राठी को शुक्रवार को बागपत जेल से फतेहगढ़ की सेंट्रल जेल ले दाने के लिए बाकायजा वीआईपी सरीखा इंतजाम था। शनिवार दोपहर कड़ी सुरक्षा में पुलिसकर्मी राठी को फतेहगढ़ सेंट्रल जेल के लिए रवाना हो गए। जेल अधीक्षक विपिन कुमार मिश्रा ने बताया कि सीओ राजवीर सिंह के नेतृत्व में दो इंस्पेक्टर, दो दरोगा, चार हेड कॉन्स्टेबल और 11 कॉन्स्टेबल राठी को लेकर गए है। उसके साथ कुल पांच पुलिस वाहनों का काफिला रहा। सीओ राजवीर सिंह की गाड़ी आगे चल रही थी। बीच में राठी का व्रज वाहन था। काले-नीले शीशे होने के कारण वज्र वाहन में बैठा हुआ सुनील दिखाई नहीं दे रहा था।
सूत्रों के मुताबिक उसे फतेहगढ़ जेल भेज दिया गया। उस वक्त चर्चा थी कि सुनील राठी ने अपने रसूख का इस्तेमाल कर हप्पू की जेल बदलवाई है। इस बीच अब सुनील खुद फतेहगढ़ जेल भेज दिया गया, इसलिए पुलिस के कान खड़े हो गए हैं कि वहां बागपत जेल सरीखी कोई कहानी न दोहराई जाए। वहीं पुलिस का मानना है कि फतेहगढ़ की तरफ मुन्ना बजंगी का काफी असर है। सुनील वहां मुन्ना के गुर्गों के निशाने पर आ सकता है। फिर हप्पू और सुनील का विवाद बढ़ सकता है। ऐसे में अब कोशिश हो रही है कि जल्द ही सुनील राठी को फिर से उत्तराखंड की रुड़की जेल भिजवाने की व्यवस्था की जाए। इससे यूपी पुलिस को सुनील राठी को सुरक्षा देने का झंझट खत्म हो जाएगा। दूसरे अगर कोई वारदात सुनील के साथ घटती है, तो यूपी पुलिस का इससे सीधा कोई लेनादेना नहीं होगा।
वेस्ट यूपी में क्राइम की दुनिया में हप्पू का बड़ा नाम रहा है। उसकी गिरफ्तारी पर बीते दिनों सरकार ने एक लाख रुपये का इनाम घोषित किया था। पुलिस ने उसे राजस्थान से गिरफ्तार करने में कामयाबी हासिल की थी। गिरफ्तार करने के बाद उसे बागपत जेल में रखा गया था। बताते है कि मुन्ना बजरंगी की हत्या के आरोपित सुनील राठी से हप्पू का 36 का आंकड़ा रहा है। जेल प्रशासन को शक था कि दोनों में विवाद हो सकता है। इस बीच हप्पू की जेल ट्रांसफर हो गई।

Share it
Top