वाणिज्य कर सेवा संघ के 52वीं वार्षिक अधिवेशन: व्यापारियों का शोषण नहीं होना चाहिए : योगी आदित्यनाथ

वाणिज्य कर सेवा संघ के 52वीं वार्षिक अधिवेशन: व्यापारियों का शोषण नहीं होना चाहिए : योगी आदित्यनाथ

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शुक्रवार को उत्तर प्रदेश वाणिज्य कर सेवा संघ के 52वीं वार्षिक अधिवेशन को संबोधित करते हुए कहा कि व्यापारियों का शोषण नहीं होना चाहिए। उनके अंदर यह भाव पैदा करने की जरूरत है कि वह कर चोरी ना करें। राष्ट्र के विकास के लिए कर चोरी न कर अपना अहम योगदान कर सकते हैं।
उन्होंने कहा कि जीएसटी का सरलीकरण किया गया है। फिर भी व्यापारियों में विश्वास की कमी है। जीएसटी का सबसे ज्यादा दुष्प्रचार किया गया। विरोधियों ने व्यापारियों में भय का वातावरण बनाने का काम किया। परस्पर विश्वास का माहौल कैसे तैयार हो सके, इसके लिए काम करना आवश्यक है।
योगी आदित्यनाथ ने कहा कि 13 लाख व्यापारियों का पंजीकरण हुआ है। यह हमें 20 लाख तक लेकर जाना है। मुख्यमंत्री ने कहा कि व्यापारियों का पंजीकरण उनके हित में है। उत्तर प्रदेश में जीएसटी की सबसे बेहतर संभावनाएं हैं।
उन्होंने कहा कि अधिकारी अपने विभाग की छवि को चमकाएं। यह कर संग्रह करने का सबसे बड़ा विभाग है। सरकार हर मुद्दे पर बातचीत के जरिए समस्याओं का समाधान करेगी, लेकिन सरकार पर अनावश्यक दबाव बनाना ठीक नहीं।
मुख्यमंत्री ने कहा कि संवाद से लोकतंत्र चलेगा। जब कोई संवाद का रास्ता छोड़ कर दबाव का रास्ता कर अख्तियार करता है तो समस्याएं आती है। उत्तर प्रदेश में राजस्व संग्रह बढ़ा है। पिछले 3 महीने का रेवेन्यू सबसे अच्छा आया है। इसे हमको और आगे ले जाना है।
उत्तर प्रदेश वाणिज्य कर सेवा संघ के अध्यक्ष मनोज त्रिपाठी ने स्वागत भाषण करते हुए कहा कि सीमित संसाधनों के बावजूद जीएसटी को लागू करने में हम सफल हुए हैं। राजस्व संग्रह के क्षेत्र में उल्लेखनीय वृद्धि हुई है। उन्होंने कहा कि हमें प्रशंसा और प्रोत्साहन की भी जरूरत है। आभार ज्ञापन महासचिव ब्रिजेश दीपांकर ने किया।

Share it
Top