पूजा-पाठ ने रोकी एमडीए अफसरों की राह, विरोध के बाद मामूली ध्वस्तीकरण करके लौटी टीम

पूजा-पाठ ने रोकी एमडीए अफसरों की राह, विरोध के बाद मामूली ध्वस्तीकरण करके लौटी टीम



मेरठ। दिल्ली रोड स्थित अवैध मंडप के ध्वस्तीकरण के लिए पहुंची एमडीए टीम की राह में 'पूजा-पाठ' ने रोड़ा अटका दिया। मंडप के प्रथम तल पर चले रहे अखंड पाठ और व्यापारियों के विरोध के बाद एमडीए की टीम मंडप में मामूली ध्वस्तीकरण करके वापस लौट गई।

बताते चलें कि दिल्ली रोड मेवला फ्लाईओवर के नीचे स्थित माधुरी मंडप का मानचित्र स्वीकृत न होने के कारण एमडीए ने करीब छह माह पूर्व मंडप को सील किया था। मंगलवार को एमडीए जोन ए के जोनल अधिकारी डीसी तोमर, अवर अभियंता अंजय कुमार, महादेवशरण और विनोद शर्मा सहित एमडीए के कर्मचारियों की भारी-भरकम 'फौज' मंडप के ध्वस्तीकरण के लिए पहुंची। इस दौरान तीन थानों की फोर्स और पीएसी भी मौजूद थी। प्राधिकरण के महाबली ने जैसे ही मंडप के भूतल पर लगे बोर्ड को उखाड़ते हुए एसी की खिड़कियों आदि को तोड़ना शुरू किया तो टीम का विरोध शुरू हो गया।

मंडप की मालकिन मलियाना निवासी माधुरी शर्मा और उसके पति भूपेन्द्र शर्मा सहित कई लोग टीम ने भिड़ने को तैयार हो गए। उनका कहना था कि मंडप के प्रथम तल पर 12 घंटे का अखंड पाठ चल रहा है, ऐसे में ध्वस्तीकरण की कार्यवाही करके अफसर धार्मिक भावनाओं के साथ खिलवाड़ कर रहे हैं। अफसरों ने सख्ती दिखाई सवाल किया कि आखिर सील तोड़कर अखंड पाठ की अनुमति किसने दी। इसी दौरान संयुक्त व्यापार मंडल के अध्यक्ष नवीन गुप्ता और व्यापारी नेता गौरव शर्मा सहित दर्जनों व्यापारी मौके पर पहुंच गए और टीम की कार्यवाही का विरोध करते हुए हंगामा कर दिया।

हालांकि इस दौरान एमडीए के कर्मचारियों ने मंडप के भूतल की खिड़कियां और जंगले आदि तोड़ डाले। काफी देर चले हंगामे के बाद एमडीए की टीम को पीछे हटना पड़ा और मामूली कार्यवाही के बाद टीम वापस लौट गई। अब अखंड पाठ समाप्त होने के बाद मंडप में ध्वस्तीकरण की बात कही जा रही है।


Share it
Top