उपभोक्ता को 1,28,45,95,444 का विद्युत बिल दिये जाने का मामला...विद्युत विभाग ने दोषी कार्मिकों के खिलाफ कडी कार्यवाही के निर्देश दिये गये

उपभोक्ता को 1,28,45,95,444 का विद्युत बिल दिये जाने का मामला...विद्युत विभाग ने दोषी कार्मिकों के खिलाफ कडी कार्यवाही के निर्देश दिये गये

मेरठ। हापुड के उपभोक्ता शमीम को तकनीकी त्रुटि के कारण 1,28,45,95,444/-रू० का विद्युत बिल दिये जाने की खबर विभिन्न मीडिया में प्रसारित होने पर विभाग द्वारा प्रकरण को संज्ञान में लेकर, दोषी कार्मिकों के खिलाफ कडी कार्यवाही के निर्देश दिये गये हैं।

प्रिन्स गौतम, अधिशासी अभियन्ता, वि०वि०खं०-प्रथम, हापुड के हवाले से अवगत कराया गया कि शमीम निवासी चमरी निकट मलखान, हापुड द्वारा दिनांक 25.01.2019 को एकमुश्त समााधान योजना के अन्र्तगत पंजीकृत कराया गया। माह मार्च में उपभोक्ता द्वारा फाईनल बिल जमा कराने हेतु इं० पूजा वर्मा, उपखण्ड अधिकारी द्वारा तकनीकी त्रुटि ओ०टी०एस० फाईनल बिल जमा कराते हुए आन लाईन सिस्टम में एडजस्टमेन्ट करते हुए धनराशि की जगह उपभोक्ता की एकाउण्ट आई०डी० फीड कर दी गयी, जिसके कारण उपभोक्ता को गलत बिल निर्गत हुआ। गौरतलब है कि इं० पूजा वर्मा वर्तमान में निलम्बित चल रही हैं।

गलत बिल की जानकारी संज्ञान में आने पर राजीव कुमार, उपखण्ड अधिकारी, वि०वि० उपखण्ड-द्वितीय, हापुड द्वारा उपभोक्ता शमीम का 1,28,45,95,444/- धनराशि का गलत बिल संशोधित कर रू० 3136 का सही बिल उपभोक्ता को प्रेषित किया गया है, जिसका भुगतान उपभोक्ता द्वारा दिनांक 20.7.2०19 को कर दिया गया है। उपभोक्ता सही बिल जमा कराकर पूरी तरह संतुष्ट है। उपभोक्ता को हुई असुविधा के लिए अधिशासी अभियन्ता, वि०वि०खं०-प्रथम, हापुड द्वारा खेद प्रकट किया गया है। इस सम्बन्ध में सम्बन्धित मीटर रीडर एवं बिलिंग एजेन्सी मैसर्स फ्लूएन्ड ग्रिड से भी स्पष्टीकरण मांगा गया है कि मीटर रीडर पुष्पेन्द्र ने गलत बिल तैयार कर जान बूझ कर उपभोक्ता को दिया, जिससे विभाग की छवि धूमिल हुई, जबकि यदि किसी कारणवश गलत बिल तैयार हो गया था तो बिलिंग एजेन्सी एवं मीटर रीडर द्वारा गलत बिल को सम्बन्धित नोडल अधिकारी के माध्यम से संशोधित कराकर सही बिल उपभोक्ता को दिया जाना था।

Share it
Top