मेरठ: शासकीय कार्यों की गोपनीयता भंग करने वाले होंगे दण्डित-डा0 प्रभात कुमार

मेरठ: शासकीय कार्यों की गोपनीयता भंग करने वाले होंगे दण्डित-डा0 प्रभात कुमार

मेरठ। प्रदेश सरकार के भ्रष्टाचार पर जीरो टॉलरेन्स व अधिकारियों एवं कर्मचारियों को अपने शासकीय दायित्वों का निर्वहन पूरी ईमानदारी व निष्ठा से करने के कड़ें निर्देश के क्रम में तहसील सदर मेरठ में शासकीय कर्मचारियों द्वारा प्राईवेट लोगो से शासकीय कार्य कराने की शिकायत पर आयुक्त द्वारा जांच करायी गयी तथा सभी जांचों में आख्या सही आने पर आयुक्त द्वारा स्वंय प्रकरण की गंभीरता को देखते हुए सर्वीलेंस कर जांच करायी गयी जिसमें प्रकरण सही पाया गया। आयुक्त ने स्वंय तहसील मेरठ पहुंचकर शासकीय कार्य कर रहे पांच प्राईवेट लोगों व नाजिर तहसील के विरूद्ध एफआईआर दर्ज करने के निर्देश दिये।
आयुक्त डा. प्रभात कुमार ने बताया कि उनको शिकायतकर्ता राजकुमार द्वारा नाजिर की कारगुजारियों व नाजिर व अन्य कर्मचारियों द्वारा प्राईवेट लोग रखकर उनसे शासकीय कार्य कराने की शिकायत प्राप्त हुई। जिसकी जांच उन्होंने अपर जिलाधिकारी प्रशासन, एसडीएम, तहसीलदार व नायब तहसीलदार से करवाई लेकिन सभी जांच आख्याओं में शिकायत झूठी पायी गयी। जिस पर उन्होंने प्रकरण की गंभीरता को देखते हुए सर्वीलेंस कर जांच करायी जिसमें प्रकरण सही पाया गया।
आयुक्त ने बताया कि तहसील सदर में छापे के दौरान पांच प्राईवेट लोग सरकारी कार्य करते हुए पाये गये। उन्होंने पांचों लोगो को पकड़वाकर आयुक्त कार्यालय में उनके समक्ष प्रस्तुत कराया। पकड़े गये अभियुक्तों में संजय, नितिन, रिजवान, आशु व मुकेश कुमार ने अपना जुर्म कुबूल किया। आयुक्त ने बताया कि नाजिर रण सिंह को भी अभियुक्तों के साथ कमिश्नरी लाया गया तथा सभी के बयान दर्ज कराकर व एफआईआर दर्ज करायी गयी।
आयुक्त के समक्ष संजय ने बताया कि वह पेशकार आकाश के लिये काम करते है, नितिन ने बताया कि वह नाजिर के लिये काम करते है, रिजवान ने बताया कि वह तहसीलदार न्यायायिक के पेशकार के लिये काम करता है, आशु ने बताया कि जो कि तहसील परिसर के अन्दर उन लोगो के बीच था ने बताया कि वह नाजिर का ड्राइवर का कार्य करता है तथा मुकेश कुमार ने बताया कि वह आरसी बाबू के लिये कार्य करता है।
आयुक्त ने बताया कि जिन शासकीय कर्मियों के लिए यह लोग कार्य करते है, उनके विरूद्ध भी कार्यवाही की जाएगी। कर्मचारियों के पक्ष में कलैक्ट्रेट कर्मचारी संघ के पदाधिकारी भी आयुक्त के समक्ष अपने स्तर से कार्यवाही करने के लिए पहुंचे लेकिन आयुक्त ने उनको समझाकर वापस भेज दिया। इस अवसर पर अपर जिलाधिकारी प्रशासन सत्य प्रकाश पटेल सहित अन्य अधिकारीगण उपस्थित रहे।

Share it
Top