कैराना-नूरपुर में उप चुनाव जीतने को भाजपा ने झोंकी ताकत

कैराना-नूरपुर में उप चुनाव जीतने को भाजपा ने झोंकी ताकत

मेरठ। गोरखपुर और फूलपुर लोकसभा उप चुनावों में हार के बाद भाजपा ने कैराना लोकसभा और नूरपुर विधानसभा उप चुनावों में पूरी ताकत झोंक दी है। भाजपा ने अपने नेताओं और कार्यकर्ताओं को कस्बे-कस्बे और गांव-गांव में तैनात करके मतदाताओं को बूथ तक लाने का जिम्मा सौंपा है। बूथ स्तर पर कामयाब होते ही भाजपा की जीत को कोई नहीं रोक सकता।
उल्लेखनीय है कि सांसद हुकुम सिंह के निधन से कैराना लोकसभा सीट पर उप चुनाव हो रहा है। भाजपा ने यहां से दिवंगत सांसद की पुत्री मृगांका सिंह को चुनाव मैदान में उतारा है। स्व. सांसद ने कैराना पलायन मुद्दा उठाकर पूरे देश में सुर्खियां बटोरी थी। प्रदेश में भाजपा सरकार बनने के बाद से अपराधियों के खिलाफ अभियान चलाया गया। पलायन के जिम्मेदार कई अपराधियों को मार गिराया गया तो कई जेल भेज दिए गए। इन चुनावों को भाजपा ने अपनी प्रतिष्ठा का सवाल बना लिया है। इसलिए भाजपा ने अपने तमाम नेताओं और कार्यकर्ताओं को जिम्मेदारी देकर उप चुनाव में कार्य करने को उतारा है। पार्टी का मकसद बूथ स्तर पर काम करके वोटरों को मतदान केंद्र तक लाना है। इसमें जाति और क्षेत्र का पूरा ध्यान रखा जा रहा है। अगर वह इस मुहिम में कामयाब रही तो सीट निकालना भाजपा के लिए मुश्किल नहीं लगता।
2013 दंगे और पलायन मुद्दा कर रहा काम
शामली जनपद की कैराना लोकसभा सीट में दो विधानसभा सीट गंगोह और नकुड़ सहारनपुर जनपद की है। ऐसे में यहां पर सहारनपुर के रशीद मसूद परिवार के नेता भी सक्रिय हो गए हैं। भाजपा यहां 2013 के मुजफ्फरनगर दंगों और कैराना पलायन मुद्दे को भुना रही है तो रालोद-सपा उम्मीद तबस्सुम हसन के पक्ष में अभियान चला रहे नेता इसके लिए भाजपा को जिम्मेदार बता रहे हैं।
नूरपुर में लोकेंद्र सिंह की विरासत बचाने की चुनौती
बिजनौर जनपद की नूरपुर विधानसभा सीट पर भाजपा विधायक लोकेंद्र सिंह की मृत्यु के बाद उप चुनाव हो रहा है। भाजपा ने यहां से लोकेंद्र सिंह की पत्नी अवनी सिंह को अपना प्रत्याशी बनाया है। ऐसे यहां भी भाजपा की प्रतिष्ठा दांव पर लगी है।
नूरपुर से दो बार विधायक चुने गए लोकेंद्र सिंह की विरासत बचाने के लिए भाजपा ने कैराना लोकसभा की तर्ज पर ही अपने नेताओं और कार्यकर्ताओं को गांव-गांव उतार दिया है। दिग्गज नेताओं की चुनावी सभाओं से पहले ही भाजपा अपने चुनावी अभियान को पूरी तरह से पटरी पर लाने को तैयार है।

Share it
Top