मेरठ: जिलाधिकारी ने किया कांवड़ मार्ग का निरीक्षण...मानक व गुणवत्ता का विशेष ध्यान रखें समय पर पूर्ण हो सभी निर्माण कार्य

मेरठ: जिलाधिकारी ने किया कांवड़ मार्ग का निरीक्षण...मानक व गुणवत्ता का विशेष ध्यान रखें समय पर पूर्ण हो सभी निर्माण कार्य

मेरठ। मेरठ आने वाले तथा मेरठ से गुजरकर अन्य जनपदों को जाने वाले शिवभक्तों को सुगम मार्ग प्रदान करने के उद्देश्य से जिलाधिकारी अनिल ढींगरा ने आज गंगनहर किनारे बने कांवड़ मार्ग पर पहुंचकर वहां चल रहे कार्यो का निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान उन्होंने लोनिवि एवं सिंचाई विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिये कि वह जो भी कार्य करें उसमें गुणवत्ता एवं मानकों को पूर्ण ध्यान रखें तथा सुनिश्चित करें कि निर्धारित समय से पहले ही निर्माण कार्य पूर्ण हो। उन्होंने पटरी पर खड़े पेड़ो से सड़क निर्माण में आ रही समस्या को देखते हुए वन निगम/वन विभाग के अधिकारियों को एक सप्ताह में पेड़ों को कटवाने के निर्देश दिये।
जिलाधिकारी अनिल ढींगरा ने अधिकारियों से कहा कि मा० मुख्यमंत्री के निर्देश है कि कावंड़ मार्ग पर शिवभक्तों की यात्रा पूर्ण रूप से सुगम, सुव्यवस्थित एवं सुरक्षित होनी चाहिए ,इसलिए अधिकारी कावंड मार्ग पर किये जाने वाले सभी कार्यो को समय पूर्ण करें। निरीक्षण के दौरान लोनिवि के अधिकारियों द्वारा अवगत कराया गया कि जनपद मेरठ की सीमा में 42.3 किमी का कावंड़ मार्ग है, जिस पर लगभग 2498 पेड़ है, जिसमें करीब 200 पेड़ ऐसे है जिनके कारण सड़क निर्माण का कार्य जगह-जगह बाधित है, इसपर जिलाधिकारी ने वन निगम के अधिकारियों को लोनिवि अधिकारियों से समन्व्य स्थापित कर 200 पेड़ों को एक सप्ताह में काटने तथा शेष पेड़ों को एक माह में काटने के निर्देश दिये।
उन्होंने लोनिवि के अधिकारियों को निर्देश दिये कि वह सड़क मार्ग निर्माण में प्रयोग की जाने वाली सामग्री का गुणवत्ता एव मानकों के अनुरूप उपयोग करें ताकि सड़क लम्बे समय तक चल सके। उन्होंने अधिकारियों से कहा कि यदि कावंड़ मार्ग के निर्माण में किसी भी प्रकार की लापरवाही पायी गयी तो सम्बंधित को किसी भी दशा में बख्शा नहीं जाएगा। उन्होंने सड़क किनारें की दोनो ओर की पटरियो को भी समतलीकरण करने के भी निर्देश दिये।
उन्होंने लोनिवि अधिकारियों को निर्देश दिये कि वह वन विभाग के सहयोग से सड़क मार्ग से दूरी चिन्हित कर वहां पर काटे गये पड़े की मात्रा के अनुसार पौधारोपण अवश्य करायें। उन्होंने सिंचाई विभाग के अधिकारयों को निर्देश दिये कि वह सुनिश्चित करें कि पटरी मार्ग पर कंही भी सिल्ट न पड़ी हो और नहर की मानक के अनुरूप बांउड्री अवश्य हो। उन्होंने अधिकारियों को निर्देशित किया कि वह कांवड़ मार्ग पर प्रकाश व्यवस्था हेतु कार्ययोजना बनाकर उनके समक्ष प्रस्तुत करें ताकि आगामी कावंड यात्रा से पहले ही कांवड़ मार्ग पर प्रकाश व्यस्था चालू हो सके। इस अवसर पर डीएफओ अदिति शर्मा, एसडीएम सरधना राकेश कुमार, सीओ पुलिस सरधना संतोष कुमार सिंह, अधिशासी अभिंयंता लोनिवि प्रताव सिंह, सहित वन निगम सिंचाई एवं लोनिवि के अधिकारी उपस्थित रहे।

Share it
Top