मेरठ: साहसी युवक ने मौत के मुंह से बचाई तीन जिंदगिंया

मेरठ। साहसी बलराम की सूझबूझ और मदद के जज्बे ने गंगनहर में डूबती तीन जिंदगियों को बचा लिया। पूठ पुल के पास दिल्ली पुलिस के दरोगा की स्विफ्ट कार अनियंत्रित होकर गंगनहर में समा रही थी। इसी बीच रास्ते से गुजर रहे बलराम की नजर उन पर पड़ गई तो वह तुरंत रस्सी लेकर मदद के लिए दौड़ पड़े। रस्सी को गंगनहर में फेंक कर दरोगा, उनकी पत्नी और बेटे को डूबने से बचा लिया। दिल्ली पुलिस के दरोगा और उनका परिवार बलराम को राम का अवतार बताकर शुक्रियां जता रहे हैं।
दिल्ली के हर्ष विहार कालोनी निवासी महेश चंद शर्मा दिल्ली पुलिस में एएसआई हैं और विकासनगर थाने में उनकी तैनाती है। महेश चंद शर्मा को रीढ़ की हड्डी में कुछ परेशानी है। अपनी पत्नी सावित्री और बेटे रजत गौतम के साथ स्विफ्ट कार में महेश चंद शर्मा सरधना में वैद्य सेवाराम त्यागी के यहां आए थे। शाम को वापसी में करीब पांच बजे महेश चंद शर्मा की कार पूठ पुल पर पहुंची। कार उनका बेटा रजत चला रहा था। पूठ पुल से कार दिल्ली की ओर कांवड़ मार्ग पर मोड़ दी और दिल्ली की ओर चलने लगे। कुछ दूर चलने के बाद सामने से आती एक कार को बचाने में रजत कार से नियंत्रण खो बैठा। तेज रफ्तार कार बाउंड्री वॉल तोड़ते हुए गंगनहर में समा गई। कार के शीशे खुले हुए थे जिसके चलते सभी कार से बाहर निकलकर मदद के लिए चिल्लाने लगे।
इस बीच रास्ते से गुजर रहे गांव पथौली निवासी किसान बलराम ने बाइक रोकी और मदद के लिए दौड़ पड़े। बलराम ने एक कार रुकवाई और उससे रस्सी लेकर गंगनहर के किनारे झाडिय़ों में उतर गए। रस्सी के सहारे से दरोगा और उनकी पत्नी-बेटे को सकुशल गंगनहर से बाहर खींच लिया।
नहर से बाहर आने के बाद काफी देर तक पीडि़त सदमे की हालत में रहे। दूसरी ओर कार नहर में समा गई। घटना का पता लगते ही आसपास के दर्जनों लोग मौके पर पहुंच गए और पुलिस को सूचना दी। जानी और रोहटा थाने की फोर्स मौके पर पहुंचने के बाद जब पूरा परिवार सुरक्षित हो गया उसके बाद ही बलराम घटना स्थल से गए।

Share it
Top