मेरठ: रिटायर्ड फौजी करेंगे विश्वविद्यालय की सुरक्षा

मेरठ: रिटायर्ड फौजी करेंगे विश्वविद्यालय की सुरक्षा

मेरठ। चौधरी चरण सिंह विश्वविद्यालय की सुरक्षा अब रिटायर्ड फौजियों के हवाले होगी। कैंपस की सुरक्षा में बड़ा बदलाव करने पर मुहर लगा दी है। अभी तक सुरक्षा की जिम्मेदारी होमगार्ड के कंधों पर है, लेकिन यूनिवर्सिटी व्यवस्था से संतुष्ट नहीं है। विवि ने रिटायर्ड फौजियों को सुरक्षा में तैनाती का प्रस्ताव तैयार करते हुए शासन को भेज दिया है। अगले महीने कैंपस की सुरक्षा होमगार्ड से हटकर रिटायर्ड फौजियों के खाते में जाने की उम्मीद है। यूनिवर्सिटी में सात साल बाद सिक्योरिटी सिस्टम में बदलाव होने जा रहा है। 2010 से पहले यूनिवर्सिटी में प्राइवेट सिक्योरिटी एजेंसी सुरक्षा के लिए गार्ड तैनात करती थी, लेकिन भ्रष्टाचार के आरोपों के बाद यह जिम्मा होमगार्ड के पास चला गया। सात साल से यह व्यवस्था होमगार्ड संभाल रहे हैं, लेकिन हाल के वर्षों में सुरक्षा में तमाम खामियां उजागर हुई। ऐसे में यूनिवर्सिटी ने कैंपस की पूरी सुरक्षा व्यवस्था के लिए रिटायर्ड फौजी को तैनात करने का फैसला लिया है। अधिकारियों के अनुसार फौजी होमगार्ड के मुकाबले ज्यादा प्रशिक्षित और सक्रिय होते हैं। उनकी पर्सनलिटी भी होमगार्ड के मुकाबले बेहतर है। कैंपस में इस वक्त जो होमगार्ड काम कर रहे हैं उन पर छात्र भारी पड़ते हैं। सक्रियता के मामले में भी होमगार्ड यूनिवर्सिटी की अपेक्षाओं पर खरे नहीं उतर सके। कैंपस में लगातार निगरानी में भी होमगार्ड पीछे रहे। अधिकारियों के अनुसार विशेष प्रशिक्षण, सक्रियता और व्यक्तिव के चलते कैंपस की सुरक्षा फौजियों के हवाले ज्यादा बेहतर होगी।

Share it
Top