मेरठ: छेडख़ानी के मामले पुलिस के लिए बने सिरदर्द

मेरठ: छेडख़ानी के मामले पुलिस के लिए बने सिरदर्द

मेरठ। छेडख़ानी के मामले में तीन दिन थाने में बंद युवकों के खिलाफ छात्राओं के परिजन तहरीर नहीं दे रहे है। वहीं एसओ ने सोमवार को आरोपियों के खिलाफ जेल भेजने की बात कही है। सूत्रों के अनुसार भावनपुर के एक गांव की रहने वाली तीन छात्राएं गुरूवार को कॉलेज से घर लौट रही थीं। इसी दौरान शराब के ठेके के पास से गुजर रहे गांव के रहने वाले तीन शराबी युवकों की बाइक उनसे टकरा गई। जिसके चलते उनकी कहासुनी हो गई। घटना के बाद घर पहुंची छात्राओं ने युवकों पर छेड़छाड़ का आरोप मढ़ दिया। परिजनों ने एक कदम आगे बढ़ाते हुए तीनों युवकों पर छात्राओं को बाइक से अगवा करने का प्रयास लगाते हुए थाने में सूचना दी तो पुलिस के हाथपांव फूल गए। थाना पुलिस ने आनन-फानन में तीनों आरोपियों को पकड़कर हवालात में डाल दिया। सूत्रों के अनुसार पुलिस तीन दिन से पीडि़तों से आरोपियों के खिलाफ तहरीर मांग रही है, लेकिन वह तहरीर देने से इंकार कर रहे हैं। उधर, छेड़छाड़ को लेकर होने वाली शिकायतो के चलते पुलिस भी यह नहीं समझ पा रही कि आरोपियों को किस धारा में जेल भेजे। वहीं आरोपियों के परिजन पुलिस के खिलाफ मानवाधिकार आयोग में जाने की धमकी दे रहे हैं। इस मामले में कुरेदे जाने पर एसओ भावनपुर ने आरोपियों को हिरासत में लिए जाने की पुष्टि करते हुए बताया कि यदि पीडि़त पक्ष तहरीर नहीं देगा तो भी आरोपियों को जेल भेजा जाएगा।

Share it
Top