मेरठ: धरातल पर दिखें हिंडन को निर्मल बनाने का कार्य: आयुक्त

मेरठ: धरातल पर दिखें हिंडन को निर्मल बनाने का कार्य: आयुक्त

मेरठ। निर्मल हिंडन अभियान के कार्यो की आयुक्त सभागार में आयोजित समीक्षा बैठक की अध्यक्ष्ता करते हुए आयुक्त डा. प्रभात कुमार ने कहा कि धरातल पर कार्य दिखना चाहिए। उन्होंने हिंडन से सम्बंधित जिलों में बनायी गयी जिला स्तरीय समिति की बैठके प्रत्येक माह आयोजित करने, हिडन के समीप बसे ग्रामों को जल्द से जल्द खुले में शौच से मुक्त करानें, हिंडन को निर्मल बनाने के उद्देश्य से हिंडन कावंड फरवरी माह में आयोजित करने, हिंडन व उसकी सहायक नदियों व समीप बसे ग्रामों को अतिक्रमण मुक्त करने, मान्य स्तर से अधिक प्रदूषण करने वाली औद्योगिक इकाईयों के विरूद्ध कार्यवाही करने के लिए निर्देशित किया। इस अवसर पर उन्होंने कृष्णा नदी बेसिन पर बटरफ्लाई फोनल डायर्वसिटी पर रैपिड सर्वे रिर्पोट का विमोचन किया। आयुक्त ने हिंडन, काली नदी व कृष्णा नदी से सम्बंधित सभी जिलों में दाई और बांयी और जिस जिस लम्बाई से वह नदी गुजर रही है उसके किनारे बसे ग्रामों में गा्रम समाज की भूमि पर या नदी पर हुए अतिक्रमण को चिन्हित करें ताकि अतिक्रमण मुक्त ठीक कराया जा सके। इस सम्बंध में उन्होंने आगामी 5 फरवरी तक आख्या ईमेल के माध्यम से भेजने के लिए निर्देशित किया। उन्होंने कहा कि हिंडन नदी के आस पास कितना व कहा कहा पौधा रोपण किया जा सकता है इसका आंकलन कर फरवरी अंत तक अपनी आख्या दें ताकि एनजीओं व कम्पनी के सीएसआर के माध्यम से इस कार्य को कराया जा सके। आगामी वर्षा ऋतु से पूर्व हिंडन से सम्बंधित सभी जिलो में 10-10 बड़े तालाबों के पुर्नस्थापन व निमार्ण का कार्य करने के लिए तालाबों का चिन्हीकरण 15 फरवरी तक करने के निर्देश दिये।
आयुक्त ने नगरीय अपशिष्ट व घरेलू कचरे के समाधान के सम्बंध में हिंडन व उसकी सहायक नदियों में गिर रहे 68 नालों का सर्वे कराकर नालों के पानी के कम्पोनेन्ट की जांच कराने के लिए निर्देशित किया। उन्होंने कहा कि नालों में जाली लगायी जाएगी ताकि उसके कचरे को एक स्थान पर रोककर साफ किया जा सके। आयुक्त ने हिंडन से जुडे ग्रामों में मॉडल क्रापिंग सिस्टम तैयार करने व कृषकों को जैविक खेती अपनाने के लिए प्रेरित करने के लिए कहा तथा इस सम्बंध में प्रत्येक जिल में 5-5 ग्राम चिन्हित कर वहां के प्रगतिशील किसानों से जैविक खेती करायें।

Share it
Top