मेरठ: पाकिस्तान की वजह से बदनाम है हिन्दुस्तान के मदरसे

मेरठ: पाकिस्तान की वजह से बदनाम है हिन्दुस्तान के मदरसे

मेरठ। शिया धर्म गुरू मौलाना कल्बे जव्वाद के रविवार को मेरठ पहुंचने पर हुई बैठक में उन्होंने पूर्व कैबिनेट मंत्री मोहम्मद आजम खां और शिया वक्फ बोर्ड के चेयरमैन वसीम रिजवी पर सीधा निशाना साधा। उन्होंने कहा कि वसीम रिजवी को तुरंत हटाकर किसी अच्छे व्यक्ति को जिम्मेदारी सौंपनी चाहिए। उन्होंने कहा कि वसीम रिजवी ऐसे मदरसों के नाम बताएं जहां से आतंकी निकले। यहां जिन्हें पकड़ा वह 15-20 साल मुकदमे चलने के बाद बेगुनाह साबित हुआ।
उन्होंने वसीम रिजवी पर सवाल दागते हुए कहा कि जब वह आजम खां के साथ घूमते थे, तब भी मदरसों और शिया-सुन्नी वक्फ बोर्ड की संपत्ति की देखभाल की जिम्मेदारी उनकी थी। अब पिछले छह महीने में एकदम से मदरसों में दहशतगर्दी कहां से आ गई? उन्होंने कहा कि हिन्दुस्तान के मदरसे पाकिस्तान की वजह से बदनाम हैं। तालिबान को पाकिस्तान के मदरसों में ट्रेनिंग दी गई थी, जिसके बाद में वह दहशतगर्द बने। उससे यह लोग फायदा उठाते हैं। हिन्दुस्तान के मदरसों से दहशतगर्दों का कोई ताल्लुक नहीं है। 25 साल में कोई ऐसा मदरसा बताएं जहां कोई दहशतगर्द बना हो। सब मदरसों को बदनाम करने की साजिश है। मदरसों में दीनी तालीम की शिक्षा दी जाती है उन्होंने कहा कि मुस्लिमों का जितना उत्पीडऩ सपा सरकार में हुआ है, इस सरकार में नहीं हुआ। सपा चाहती थी कि मदरसों में अंग्रेजी, इंजीनियरिंग और साइंस की पढ़ाई हो। इंजीनियरिंग कालेज में क्यों डॉक्टरी की पढ़ाई नहीं कराते। जिसका जो फील्ड है वह वहीं तो पढ़ेगा। उन्होंने मुस्लिम युवाओं से कहा कि वह सब्र, धैर्य से काम लें तथा जज्बाती न हों। उन्होंने कहा सरकार चाहती है कि मदरसों का रजिस्ट्रेशन हो तो कराएं। इसमें कोई हर्ज नहीं। मदरसों में कंप्यूटर की तालीम अच्छी बात है। उन्होंने कहा कि सपा सरकार में कब्रिस्तानों की बाउंड्रीवॉल में बेईमानी हुई। पूर्व मंत्री आजम खां को कटघरे में खड़ा करते हुए कहा कि उनके जमाने से अधिक बेईमानी शुरू हुई।

Share it
Top